DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

राज्यपाल रजी के थे ओएसडी, राजेश ठाकुर और ठेकेदार भी लपेटे में

पूर्व राज्यपाल सैयद सिब्ते रजी के ओएसडी रहे आइएएस अफसर अविनाश कुमार सहित तीन लोगों के आठ ठिकानों पर सीबीआइ ने सोमवार को छापा मारा। इनके खिलाफ आय से अधिक संपत्ति अजिर्त करने का मामला दर्ज किया गया है। कुमार के यहां से जमीन, फ्लैट, बंगला और निवेश के कागजात के अलावा कई महत्वपूर्ण दस्तावेज जब्त किए गए हैं। पूर्व राज्यपाल के निजी सचिव राजेश ठाकुर के रांची और बोकारो स्थित आवास एवं एक्सल वेंचर प्राइवेट लिमिटेड के संचालक सुचित सिंह उर्फ गुड्डू सिंह के अशोकनगर स्थित कार्यालय में भी छापामारी की गई। अविनाश कुमार के घर देर शाम तक छापामारी जारी थी।

सीबीआइ के पशुपालन कोषांग सह भ्रष्टाचार निरोधक शाखा के अधिकारियों ने  तीन अगस्त को अहले सुबह विभिन्न स्थानों पर छापामारी शुरू की। आइएएस अविनाश कुमार के घर से जो दस्तावेज जब्त किए गए हैं, उससे पता चलता है कि उन्होंने 18 स्थानों पर भूखंड खरीदा है। रांची, मुजफ्फरपुर, सीतामढ़ी और लखनऊ में जमीन के कागजात मिले हैं। सीबीआइ को जो सबूत हाथ लगे हैं, उसके अनुसार उन्होंने दिल्ली और रांची के अलावा 15 स्थानों पर फ्लैट और बंगला खरीदा है। 

सीबीआइ की टीम अविनाश कुमार के अशोक नगर स्थित घर भी गई थी, लेकिन वहां से कुछ विशेष हाथ नहीं लगा। सीबीआइ रांची के निर्देश पर पटना सीबीआइ ने कुमार के मुजफ्फरपुर स्थित घर पर भी छापामारी कर कई कागजात जब्त किए। बाढ़ के कारण सीबीआइ की टीम उनके सीतामढ़ी स्थित आवास तक नहीं पहुंच पाई। कुमार के मोरहाबादी स्थित सरकारी आवास से 20 बैंक पासबुक भी जब्त किए गए हैं, जिसमें जमा राशि का आकलन करने में सीबीआइ की टीम जुटी है।

छापामारी के वक्त कुमार देवघर में थे। सीबीआइ अधिकारियों ने उन्हें रांची आने का निर्देश दिया। दोपहर तीन बजे कुमार अपनी पत्नी के साथ रांची के सरकारी आवास पहुंचे। इसके कुछ देर के बाद उनकी ससुराल के लोग भी आए। कुमार से सीबीआइ अधिकारियों ने लंबी पूछताछ की। उधर बोकारो में सोमवार को सुबह लगभग साढ़े छह बजे सीबीआइ की अलग-अलग टीम राजेश ठाकुर के पिता टीएन ठाकुर के क ो-ऑपरेटिव कॉलोनी स्थित प्लॉट नंबर 440 ए तथा अविनाश कुमार के पिता केएन ठाकुर के सेक्टर 4 डी के क्वार्टर नंबर 2181 में पहुंची। को-ऑपरेटिव कॉलोनी में प्रारंभिक प्रक्रिया पूरी करने के बाद लगभग सात बजे छापामारी प्रारंभ हो गई, जबकि केएन ठाकुर के आवास में ताला लटक रहा था।

इसके कारण उनके आवास में दोपहर लगभग 12.30 बजे छापामारी प्रारंभ हुई, जो लगभग साढ़े चार बजे तक चली। को-ऑपरेटिव कालोनी में सीबीआइ की टीम के सदस्यों ने राजेश ठाकुर और उनके पिता टीएन ठाकुर के कमरे की काफी बारीकी से तलाशी ली तथा एक-एक कागजात की जांच की। कुछ कागजात को सीबीआइ टीम अपने साथ ले गई। छापामारी लगभग 12 बजे तक चली।

को-ऑपरेटिव कॉलोनी से निकल कर सीबीआइ की टीम सेक्टर 4डी के क्वार्टर नंबर 2181 में पहुंची। वहां साढ़े चार बजे शाम तक छानबीन चली। बरामद कागजात के आधार पर सीबीआइ की टीम ने कुछ बैंकों में जाकर भी पूछताछ की। आइएएस अधिकारी के पिता के आवास से पटना और दानापुर समेत अन्य शहरों में एक करोड़ से अधिक की अचल संपत्ति के कागजात भी मिलने की सूचना है।

छापामारी का नेतृत्व डीएसपी पीके पांडेय ने किया।राजेश ठाकुर के पिता बोकारो इस्पात के सेवानिवृत्त कर्मचारी हैं, जबकि अविनाश कुमार के पिता बोकारो स्टील में अधिकारी थे और उनके बड़े भाई आइपीएस अधिकारी हैं। ठेकेदार गुड्डू सिंह के अशोक नगर स्थित कार्यालय से लगभग पौने चार लाख रुपए और जेवरात जब्त किए गए हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:सीबीआई जाल में आइएएस अविनाश