DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बैठक से नदारद रहने वाले अधिकारियों को कारण बताओ नोटिस

जनपद के जलस्रातों के संरक्षण एवं संवर्धन के लिए जिला प्रशासन ने तैयारियां शुरू कर दी है। निर्देश दिए गए है कि इनका पुर्नगठित आकलन सात अगस्त तक प्रस्तुत कर दिया जाए। जलस्रातों के संरक्षण एवं संवर्धन संबंधी बैठक लेते हुए प्रभारी जिलाधिकारी एवं मुख्य विकास अधिकारी डा. पंकज कुमार पांडेय ने रेखीय विभागों को आवश्यक दिशा-निर्देश दिए।

जिले के 80 पेयजल स्रोतों को चिन्हित कर संवर्धन के लिए वन विभाग, सिंचाई विभाग, जलागम, लघु सिंचाई, उद्यान विभाग, जलनिगम व जलसंस्थान को आवंटित किए गए थे। सीडीओ ने निर्देश दिए कि नरेगा की तर्ज पर अगले पर अगले सप्ताह से शुरू किया जाए।

इन कार्यो को प्राथमिकता से करने पर भी जोर दिया गया। बैठक में पेयजल निगम निर्माण शाखा कोटद्वार व पौड़ी के अधिकारी उपस्थित नहीं हुए। बैठक से नदारद इन अधिकारियों को कारण बताओ नोटिस जारी किए गए हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:जलस्रोतों का आकलन सात अगस्त तक मांगा