DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बिहार में बाढ़ की स्थिति गंभीर, बचाव कार्य तेज

बिहार के सीतामढ़ी और मुजफ्फरपुर जिले में बाढ़ की स्थिति गंभीर बनी हुई है। सीतामढ़ी के रूनीसैदपुर प्रखंड के तिलक ताजपुर गांव के समीप बागमती नदी के टूटे तटबंध के मरम्मत का कार्य प्रारंभ कर दिया गया है। इस बीच बाढ़ प्रभावित लोगों को राहत सामग्री पहुंचाने का कार्य तेज कर दिया गया है।

इधर, बाढ़ का पानी सीतामढ़ी तथा मुजफ्फरपुर जिले के करीब 168 गांवों में फैल गया है। नेपाल में लगातार हो रही बारिश के कारण बाढ़ की स्थिति और खराब होती जा रही है। मुजफ्फरपुर और सीतामढ़ी के बीच राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 77 पर कोआही गांव के समीप दो फुट पानी है।

इधर, सीतामढ़ी के जिलाधिकारी अंजनी कुमार वर्मा ने सोमवार को बताया कि अब तक सीतामढ़ी के 103 गांवों में बाढ़ का पानी प्रवेश कर चुका है। उन्होंने बताया कि रविवार की शाम बारिश के कारण बाढ़ प्रभावितों तक राहत सामग्री पहुंचाने में दिक्कत जरूर हो रही थी परंतु सोमवार को आसमान साफ होने के कारण राहत कार्यो में तेजी लाया गया है। उन्होंने कहा कि क्षेत्र में तीन राहत शिविर खोले जाने हैं जिसमें एक राहत शिविर प्रारंभ कर दिया गया है।

उधर, मुजफ्फरपुर जिले के करीब 65 गांवों में बाढ़ का पानी प्रवेश कर चुका है। हालांकि जिला प्रशासन इन गांवों में कुछ को आंशिक प्रभावित बता रहा है। मुजफ्फरपुर के जिलाधिकारी विपिन कुमार ने बताया कि बाढ़ प्रभावित इलाकों में लोगों को चूड़ा, गुड़ तथा पॉलिथीन सीट बांटी जा रही है। उन्होंने कहा कि राहत कार्यो में राष्ट्रीय आपदा बल (एनडीआरएफ) के जवानों को लगाया गया है तथा बाढ़ से घिरे लोगों को बाहर निकालने के भी प्रयास किए जा रहे हैं।

उल्लेखनीय है कि रविवार को राज्य के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बाढ़ प्रभावित इलाकों के हवाई सर्वेक्षण के बाद बाढ़ पीड़ित परिवारों को एक-एक क्विंटल आनाज और 2200-2200 रुपये दिए जाने की घोषणा की थी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बिहार में बाढ़ की स्थिति गंभीर, बचाव कार्य तेज