DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बीआरटी कॉरिडोर के निर्माण पर उठे सवाल

दिल्ली सरकार की महत्वाकांक्षी योजना बीआरटी कॉरिडोर पर शनिवार देर रात हुई दुर्घटना ने इसके निर्माण को एक बार फिर कटघरे में खड़ा कर दिया है। यातायात और सड़क प्रबंधन से जुड़े जानकारों कि मानें तो यह एक जल्दीबाजी में किया गया निर्माण कार्य का नमूना है। साथ ही निर्माण में सेफ्टी ऑडिट की व्यवस्था नहीं होने के कारण इस तरह की घटनाएं होती है। जानकारों ने चूहों द्वारा मिट्टी खाने की दलील को लीपापोती व हास्यास्पद करार दिया है।

गौरतलब है कि दिल्ली सरकार ने राजधानी में पहली बीआरटी कॉरिडोर का निर्माण अंबेडकर नगर से दिल्ली गेट तक करने का निर्णय लिया। इस कॉरिडोर के एक हिस्से अंबेडकर नगर से मूलचंद तक का निर्माण गत वर्ष अप्रैल में खत्म हो गया, जिस पर ट्रायल रन शुरू हुआ। आगे के हिस्से मूलचंद से दिल्ली गेट तक का निर्माण कार्य काफी तेजी से चल रहा है और एक सितंबर से इस पर ट्रायल रन शुरू करने की योजना है।

अंबेडकर नगर से मूलचंद के बीच ट्रायल रन के साथ ही कॉरिडोर को लेकर विवाद शुरू हो गया। जनता से लेकर विपक्ष और दिल्ली सरकार के कई विधायक और कांग्रेसी सांसद तक इस कॉरिडोर के निर्माण से संतुष्ट नहीं थे। यहां तक कि संसदीय कमेटी ने भी कॉरिडोर को नाकार दिया, लेकिन दिल्ली सरकार ने थोड़ा बहुत परिवर्तन कर कॉरिडोर का निर्माण कार्य आगे बढ़ाने के साथ-साथ दो और नए कॉरिडोर निर्माण की अनुमति दे दी।

पिछले एक वर्ष में कॉरिडोर में कई दुर्घटनाएं हुई हैं। कॉरिडोर के हिस्से में शनिवार रात सड़क पर अचानक हुए गड्ढे ने इसके निर्माण पर प्रश्न चिन्ह लगा दिया है। जानकारों ने चूहों द्वारा मिट्टी को खाने की बात को सिरे से नाकारा है। सड़क सुरक्षा से जुड़े विशेषज्ञों का कहना है कि गड्ढा क्यों हुआ यह तो जांच के बाद ही पता चलेगा, लेकिन इस तरह की घटनाओं के लिए मुख्य वजह सेफ्टी ऑडिट नहीं होना है।

डिजाइन से लेकर निर्माण कार्य के बीच और खत्म होने के बाद सेफ्टी ऑडिट आवश्क है। जिसके तहत क्षेत्र का पूरा नक्शा तैयार होता है। जिसमें जमीन के ऊपर और अंदर की सारी जानकारी होती है। निर्माण से पहले मिट्टी, पाइप लाइन, वायरिंग आदि की जांच होती है।

निर्माण के लिए उपयोग में लाए जाने वाले मैटेरियल की जांच होती है। निर्माण के बाद सुरक्षा की जांच होती है। सरकार राष्ट्रमंडल खेलों के मद्देनजर जल्द काम करना चाहती है और लीपापोती के जरिए काम किया जा रहा है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बीआरटी कॉरिडोर के निर्माण पर उठे सवाल