DA Image
21 जनवरी, 2020|8:11|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बुन्देलखण्ड प्राधिकरण पर भाजपा की राय बसपा जैसी

बहुजन समाज पार्टी के बाद अब उत्तर प्रदेश भाजपा ने भी बुंदेलखंड में  विकास प्राधिकरण का विरोध किया है। भाजपा विधानमंडल दल के नेता ओम प्रकाश सिंह ने रविवार को यहाँ प्रेस कांफ्रेंस में कहा कि भाजपा इस बसपा के साथ कतई नहीं खड़ी है लेकिन प्राधिकरण के मुद्दे पर उसकी अपनी राय साफ है।

यह कि यह संविधान विरोधी है। भाजपा हर हाल में किसी भी केन्द्रीय कौंसिल या  प्राधिकरण के गठन का विरोध करेगी। इससे राज्य के अधिकारों का हनन होगा। केन्द्र सरकार अगर बुंदेलखंड के विकास के लिए आर्थिक पैकेज देना चाहती है तो दे, लेकिन प्राधिकरण न बनाए।

अलबत्ता पैकेज के तहत मिलने वाले विकास के पैसे खर्च की निगरानी के लिए केन्द्रीय समिति जरूर बनाई जा सकती है। श्री सिंह ने मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान की ओर से लिखा गया पत्र भी प्रेस कांफ्रेंस में बाँटा जिसमें कहा गया है कि कौंसिल  का गठन दोनों  राज्यों के लिए घातक है। इससे संघीय व्यवस्था पर असर पड़ेगा। ओमप्रकाश सिंह ने कहा कि कांग्रेस सरकार राहुल गांधी बुंदेलखंड में स्थापित करने के लिए तरह-तरह के राजनीतिक सगूफे इस्तेमाल कर रही है।

उन्होंने कहा कि केन्द्रीय मंत्री श्रीप्रकाश जायसवाल ने यह कहकर कि जरूरत पड़ी तो बुंदेलखंड ही नहीं पूरे प्रदेश के विकास के लिए अलग से कौंसिल बनाया जाएगा, पद की गरिमा के मुताबिक व्यवहार नहीं किया है। उन्होंने बतौर मंत्री ली जाने वाली गोपनीयता की शपथ भी तोड़ी है। लिहाजा उन्हें इस्तीफा देना चाहिए।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:बुन्देलखण्ड प्राधिकरण पर भाजपा की राय बसपा जैसी