अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कांग्रेस झामुमो की दोस्ती टूटी।

राजद को दरकिनार करने की मुहिम में साथ चल रहे कांग्रेस- झामुमो की भी दोस्ती टूट गयी। सोमवार को सौरभ नारायण को कांग्रेस ने हाारीबाग से सिंबल दिया था। 24 घंटे बाद ही झामुमो ने शिवलाल महतो को हाारीबाग से ही सिंबल थमा दिया। मंगलवार को शिवलाल सिंबल लेकर दिल्ली से रांची पहुंचे। सीधे अपने क्षेत्र चले गये, कहा कि गुरुाी का आशीर्वाद मिल गया है। उन्होंने टिकट दिया है। हम उन्हें सीट देंगे। शुरुआती समझौते के तहत झामुमो के हिस्से हाारीबाग सीट आयी थी। कोडरमा कांग्रस को दी गयी थी। सौरभ जब हजारीबाग से टिकट ले आये तो कहा गया कि सीट की अदला-बदली हुई है। लेकिन अब फिर सब उलटा-पुलटा हो गया है।ड्ढr चुनाव होगा दिलचस्प : भाकपा से सांसद भुवनेश्वर मेहता, भाजपा से पूर्व सांसद यशवंत सिन्हा, कांग्रस से विधायक सौरभ नारायण, आजसू से चंद्रप्रकाश चौधरी जैसे दिग्गजों की मौजूदगी ने हजारीबाग का चुनाव काफी दिलचस्प बना दिया है। इनके अलावा झामुमो के शिवलाल महतो, झाविमो के बीके जायसवाल और लोजपा के नित्यानंद महतो की भी क्षेत्र में अपनी पहचान और पकड़ है।ड्ढr पलामू से कामेश्वर बैठा : उधर, पलामू से झामुमो ने पूर्व नक्सली कामेश्वर बैठा को उम्मीदवार बनाया है। विधायक मथुरा महतो ने इसकी पुष्टि की है। बैठा ने पिछले उपचुनाव में जेल में रहते बसपा के टिकट पर चुनाव लड़ा था और करीब डेढ़ लाख वोट हासिल किये थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: कांग्रेस झामुमो की दोस्ती टूटी।