DA Image
22 फरवरी, 2020|10:21|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

विकल्पों की सूची जारी

 राज्य निर्वाचन प्राधिकार ने पैक्स चुनाव के दौरान मतदाताओं की पहचान के लिए जिन दस्तावेजों का इस्तेमाल किया जा सकता है, उनकी सूची जारी कर दी है। मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी एन. एस माधवन ने बताया कि हर वोटर को बूथ पर पहचान पत्र दिखाना अनिवार्य है इसके बिना उन्हें वोट देने से वंचित किया जा सकता है। जिनके पास भारत निर्वाचन आयोग द्वारा बनाये गये मतदाता पहचान पत्र नहीं है वे वैकल्पिक दस्तावेजों के आधार पर वोट दे सकते हैं।

राज्य निर्वाचन प्राधिकार के अनुसार वोटर आयोग द्वारा बनाये गये फोटो पहचान पत्र के अलावा पासपोर्ट, ड्राइविंग लाईसेंस या आयकर पहचान पत्र के आधार पर वोट गिराये जा सकते हैं। जिनके पास यह भी उपलब्ध नहीं हो वे केन्द्र सरकार, सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रम, स्थानीय निकाय या सीमित व सार्वजनिक कंपनियों द्वारा अपने कर्मचारियों को जारी किये गये सेवा पहचान पत्र के आधार पर वोट दे सकते हैं।

स्वीकृत  शैक्षणिक संस्थानों द्वारा 31 मार्च 2009 या उसके पहले छात्र पहचान पत्र, लाइब्रेरी कार्ड बैंक अथवा डाकघर द्वारा जारी पासबुक, किसान पासबुक, 31 मार्च 2009 या उसके पहले जारी जाति प्रमाण पत्र, शस्त्र लाइसेंस, संपत्ति दस्तावेज, मूल पेंशन दस्तावेज, वृद्धा या विधवा पेंशन कार्ड, रेलवे पास, अपंगता प्रमाण पत्र स्वतंत्रता सेनानी पहचान पत्र, पैक्स के मुख्य कार्यपालक द्वारा निर्गत हिस्सा पूंजी जमा करने की रसीद, संबंधित पैक्स द्वारा निर्गत सदस्य पहचान पत्र, नरेगा पारिवारिक नौकरी प्रमाण पत्र और बीमा योजना स्मार्ट कार्ड के आधार पर भी वोट डाले जा सकते हैं। पहचान पत्र फोटोयुक्त होने चाहिए।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:पैक्स चुनाव - वोटरों को पहचान पत्र दिखाना जरूरी