DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सीरीज का शहंशाह बनने उतरेगा श्रीलंका

सीरीज का शहंशाह बनने उतरेगा श्रीलंका

पाकिस्तान के खिलाफ पहले दो मैचों में मिली धमाकेदार जीत से उत्साहित श्रीलंका सोमवार को तीसरे वनडे को जीतकर सीरीज अपने नाम करने के लक्ष्य के साथ उतरेगा।

श्रीलंका ने पहले मैच में पाकिस्तान को 36 रन से हराया था जबकि दूसरे मैच में छह विकेट से धमाकेदार जीत दर्ज की थी। टेस्ट सीरीज 2-0 से जीतने के बाद मेजबान टीम के पास तीसरा मैच जीतकर वनडे सीरीज भी अपने नाम करने का बेहतरीन मौका है जबकि पाकिस्तान को सीरीज में बने रहने के लिए यह मैच हर हाल में जीतना होगा।

श्रीलंका की टीम इस समय पूरी लय में हैं। बल्लेबाजी और गेंदबाजी दोनों में टीम अच्छा प्रदर्शन कर रही है। हालांकि पिछलेदो मैच उसने गेंदबाजी के दम पर ही जीते हैं। गेंदबाजी में मेजबान टीम के पास कितने विकल्प हैं इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि उसके अबूझ स्पिनर अजंता मेंडिस बेंच की शोभा बढ़ा रहे हैं।

तेज गेंदबाजी में नुवान कुलशेखरा, तिलन तुषारा और लेसिथ मलिंगा की तिकड़ी पाकिस्तानी बल्लेबाजों पर कहर बरपा रही है तो बाकी रही सही कसर मुथैया मुरलीधरन पूरी कर दे रहे हैं। आलराउंडर एंजेलो मैथ्यूज ने अपनी भूमिका को बखूबी अंजाम दिया है। पहले वनडे में जहां उन्होंने ताबड़तोड़ रन बनाकर टीम को सम्मानजनक स्कोर तक पहुंचाया था तो दूसरे मैच में गेंद से अच्छा प्रदर्शन किया था।

हालांकि श्रीलंकाई बल्लेबाजों ने गेंदबाजों सरीखा चमकदार प्रदर्शन तो नहीं किया है लेकिन पाकिस्तान की लचर बल्लेबाजी की तुलना में मेजबान टीम की बल्लेबाजी काफी बेहतर रही है। महेला जयवर्धने, चामरा कापूगेदेरा और तिलन समरावीरा नेनाजुक मौकों पर धैर्यपूर्वक बल्लेबाजी कर टीम की नैय्या पार लगाई है। लेकिन उपुल तरंगा और सनत जयसूर्या की सलामी जोड़ी से अच्छी शुरुआत की आस अब भी मेजबान टीम को है।

दूसरी ओर, पाकिस्तान के लिए यह मुकाबला करो या मरो जैसा है। यदि मेहमान टीम ने इस मैच में भी पहले दोनों मैचों सरीखा ही प्रदर्शन किया तो वह उसे यहां भी हार का मुंह देखना पड़ सकता है। सीरीज में बने रहने के लिए पाकिस्तान कोखेल के हर विभाग में अपना प्रदर्शन सुधारना होगा।

टीम के सीनियर बल्लेबाजों को अपनी जिम्मेदारी समझकर बढ़िया प्रदर्शन करना होगा तो नासिर जमशेद और उमर अकमलजैसे युवा खिलाड़ियों को भी अपनी उपयोगिता साबित करनी होगी। पाकिस्तान की टीम ने अपने नियमित और बेंच पर बैठे लगभग सभी खिलाड़ियों को आजमा चुकी है ऐसे में सिर्फ इमरान नजीर ही बाकी बच गए हैं और संभव है कि कल के मैच में वह टीम के लिए पारी की शुरुआत करे।

पाकिस्तान के गेंदबाजी विभाग मे अनुभव की कमी साफ झलकती है। मोहम्मद आमिर जहां एकदम नए हैं जबकि उमर गुलदूसरी टीमों की बत्ती गुल नहीं कर पा रहे हैं। हालांकि सईद अजमल का प्रदर्शन ठीक ठाक रहा है लेकिन अब्दुल रज्जाक की धार अब कुंद हो गई है। इसके अलावा टीम की एक और बडी समस्या क्षेत्ररक्षण को लेकर है। टीम कैच टपकाने की अपनी पुरानी समस्या से निजात नहीं पा पाई है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:सीरीज का शहंशाह बनने उतरेगा श्रीलंका