DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

डोपिंग निरोधी नियम पर बीसीसीआई को ऐतराज

डोपिंग निरोधी नियम पर बीसीसीआई को ऐतराज

भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) ने रविवार को विश्व डोपिंग निरोधी एजेंसी (वाडा) के उस उपनियम को अस्वीकार कर दिया है, जिसमें खिलाड़ियों को उस वक्त भी डोप संबंधी परीक्षण के लिए तैयार रहने को कहा गया है जब वे क्रिकेट नहीं खेल रहे हों।

बीसीसीआई ने इस संबंध में कड़ा रुख अपनाया है। बोर्ड ने इस मामले को लेकर विरोध कर रहे खिलाड़ियों का साथ देते हुए कहा है कि खिलाड़ियों को अपने बारे में पूरी जानकारी देने का नियम बनाकर वाडा उनकी गोपनियता को भंग करना चाहता है।

बीसीसीआई अध्यक्ष शशांक मनोहर ने कहा, ‘‘हम मानते हैं कि क्रिकेट को डोपिंग से दूर रहना चाहिए। बीसीसीआई को इससे कोई आपत्ति नहीं है लेकिन हमारा मानना है कि वाडा को अगर डोप संबंधी परीक्षण करना ही है तब वह यह काम शिविरों या फिर किसी टूर्नामेंट के दौरान करे। खिलाड़ी जब आराम कर रहे हों, तब उनका परीक्षण नहीं किया जाना चाहिए। हम इसके खिलाफ हैं।’’

बीसीसीआई ने अपनी कार्यकारिणी की बैठक के बाद यह फैसला किया। इस बैठक में कप्तान महेंद्र सिंह धौनी और युवराज सिंह तथा हरभजन सिंह जैसे वरिष्ठ खिलाड़ी मौजूद थे।

वाडा के डोपिंग निरोधी उपनियम के अनुसार खिलाड़ियों को अपने बारे में पूर्वनिर्धारित जानकारी देनी होगी। उन्हें ऑनलाइन फार्म के जरिए यह बताना होगा कि वे कहां हैं, क्या कर रहे हैं और आने वाले दिनों में कहां जाने वाले हैं।

भारतीय खिलाड़ियों ने वाडा के इस उपनियम का खुलकर विरोध किया है। यही कारण है कि बीसीसीआई की ओर से इस उपनियम के संबंध में वाडा की शर्तों पर हस्ताक्षर नहीं किए जा सके हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:डोपिंग निरोधी नियम पर बीसीसीआई को ऐतराज