अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

चुनाव डय़ूटी में लगे शिक्षा मित्र मानदेय न मिलने से नाराज

चुनाव डय़ूटी में लगे लगभग डेढ़ हाार शिक्षा मित्र मानदेय न मिलने से आक्रोशित हैं। लोगों ने प्रशासन व बेसिक शिक्षा विभाग पर पक्षपात का आरोप लगाया है। उनका कहना है कि चुनाव डय़ूटी में लगे शिक्षकों को 1200 व 800 रुपए दिए गए, लेकिन शिक्षा मित्रों को पैसा नहीं मिला।ड्ढr लोकसभा चुनाव में इस बार जिले के प्राइमरी स्कूलों के लगभग डेढ़ हाार शिक्षामित्रों की भी डय़ूटी लगाई गई थी। शिक्षा मित्रों को फोटोग्राफी में सहयोग की जिम्मेदारी मिली थी। पोलिंग पार्टियों के साथ वे भी एक दिन पहले मतदान केन्द्रों पर पहुँच गए थे। रातभर केन्द्रों पर रहे और दिन में काम किया। शिक्षकों व अन्य मतदान कर्मचारियों को एक दिन की डय़ूटी के लिए 1200 और 800 रुपए मिले। लेकिन शिक्षा मित्रों को फूटी कौड़ी नहीं दी गई। अधिकारियों ने उस समय उन्हें यह कहकर शान्त करा दिया था कि जल्दी ही उन्हें भी पैसा मिलेगा। लेकिन अब तक किसी अधिकारी ने साँस नहीं ली। इससे उनमें आक्रोश बढ़ गया। शिक्षा मित्रों का कहना है कि उन्होंने शिक्षकों जितना काम किया है। लिहाजा उन्हें मेहनताना मिलना चाहिए। अगर उन्हें मानदेय नहीं दिया गया तो वे आन्दोलन करेंगे। बेसिक शिक्षा अधिकारी राकेश कुमार श्रीवास्तव ने माना कि चुनाव में शिक्षा मित्रों को लगाया गया था। उन्होंने कहा कि शिक्षा मित्रों को मानदेय देने के लिए वे डीएम को प्रस्ताव भेजेंगे। अगर वहाँ से कोई रकम मिलती है तो उन्हें दी जाएगी।ड्ढr

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: चुनाव डय़ूटी में लगे शिक्षा मित्र मानदेय न मिलने से नाराज