DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पंचांग

सूर्य : कर्क राशि में, चंद्रमा : धनु राशि में, बुध : सिंह राशि में, शुक्र : मिथुन राशि में, मंगल : वृष राशि में, बृहस्पति : मकर (वक्री) राशि में, शनि : सिंह राशि में, राहु : मकर राशि में, केतु : कर्क राशि में। सूर्य दक्षिणायन। सूर्य उत्तर गोल। वर्षा ऋतु। सायं 4 बजकर 30 मिनट से सायं 6 बजे तक राहु कालम्।

2 अगस्त, रविवार, 11 श्रवण (सौर) शक 1931, श्रवण मास 18 प्रविष्टे 2066, 10 शाबान सन् हिजरी 1430, Þावण शुक्ल द्वादशी रात्रि 10 बजकर 52 मिनट तक उपरान्त त्रयोदशी, मूल नक्षत्र रात्रि 4 बजकर 31 मिनट तक तदनन्तर पूर्वाषाढ़ा नक्षत्र, वधृति योग रात्रि 4 बजकर 18 मिनट तक पश्चात विष्कुम्भ योग, बव करण, चन्द्रमा धनु राशि में (दिन-रात)।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:पंचांग