DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

लूटेरों को पहले से पता था

अंबेडकर नगर में लूटपाट को अंजाम देने वाले लुटेरों के पास पहले से रुपये और उसे लेकर जाने वाले लोगों की जानकारी थी। इसलिए तीन लोग वहां वारदात को अंजाम देने पहुंचे थे। इनमें से दो लुटेरों ने बाइक से उतरकर सुरक्षाकर्मी और कैशियर को काबू कर लूटपाट की जबकि तीसरा साथी बाइक स्टार्ट कर फरार होने के लिए तैयार रहा। पुलिस को जांच में पता चला है कि लुटेरे पहले से ही अस्पताल के बाहर वारदात को अंजाम देने के इरादे से खड़े थे।


पुलिस के अनुसार अस्पताल परिसर और बैंक के बीच केवल एक सड़क का फासला है। इस फासले को तय करने के लिए महज 10-15 सेकेंड का समय सुरक्षाकर्मी और कैशियर को लगना था। लेकिन इसी दौरान बदमाशों ने उन्हें लूट लिया। उन्हें पता था कि रकम लेकर कितने लोग और किस समय बाहर आएंगे। लोगों में दहशत फैलाने के लिए बदमाशों ने कई राउंड हवाई फायरिंग भी की। इस कारण कोई भी लुटेरों के बीच में बचाव के लिए नहीं आया। एटीएम पर खड़े गार्ड ने बीच में आने की कोशिश भी की लेकिन फायरिंग होता देख वह पीछे हो गया। लूट की जानकारी मिलते ही थाने की पुलिस के अलावा वरिष्ठ अधिकारी भी मौके पर छानबीन के लिए पहुंचे।
पुलिस का मानना है कि इसमें किसी ऐसे व्यक्ति ने लुटेरों को जानकारी मुहैया कराई है, जो अस्पताल के बारे में पूरी जानकारी रखता है। राजधानी में एक के बाद एक लगातार हो रही लूट पुलिस के लिए सिरदर्द बनी हुई है। याद रहें कि शुक्रवार को केशवपुरम में व्यापारी से साढ़े ग्यारह लाख रुपये लूट लिए गये थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:लूटेरों को पहले से पता था