DA Image
28 फरवरी, 2020|5:00|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एक तिहाई भारतीय छात्र अपनी शिक्षा से नाखुश

एक तिहाई भारतीय छात्र अपनी शिक्षा से नाखुश

देश के लगभग एक तिहाई छात्रों का कहना है कि वह वर्तमान शिक्षा व्यवस्था से खुश नहीं हैं। इंजिनियरिंग के छात्र अपने कैरियर चयन और पढ़ाई के मामले में सबसे ज्यादा और प्रबंधन के छात्र सबसे कम संतुष्ट हैं।

कैरियर अवसरों पर केंद्रित पत्रिका कैरियर 360 के ताजा अध्ययन में यह बात सामने आई है। देश में तकनीकी शिक्षा के मूल्यांकन के लिए सर्वेक्षण संस्था जीएफके मोड के सहयोग से किए गए इस अध्ययन में लगभग 38 फीसदी छात्रों ने माना कि उनके खर्च के अनुरूप गुणवत्तापूर्ण शिक्षा उन्हें नहीं मिल पा रही है।

शुल्क, अकादमिक सुविधाएं, योग्य अध्यापक, प्रायोगिक शिक्षण के प्रति संस्थान की इच्छा-अनिच्छा आदि मानकों के आधार पर करीब 40 प्रतिशत छात्रों ने यह विचार व्यक्त किए।  लगभग 41 प्रतिशत छात्रों ने कहा कि वे संस्थानों द्वारा जारी विज्ञापन के आधार पर कोर्स और कैंपस का चयन करते हैं। लगभग 71 प्रतिशत छात्रों का कहना है कि वह संस्थान के बारे में जानकारी के लिए विभिन्न पत्र.पत्रिकाओं की ओर से जारी रेटिंग का सहारा लेते हैं वहीं लगभग आधे छात्रो का कहना था कि वह संस्थान की सलाहों पर विश्वास नहीं करते क्योंकि इनमें प्रायः अतिशयोक्ति होती है।

एक चौथाई से ज्यादा छात्रों ने स्वीकार किया कि अपना कैरियर चुनते हुए उनसे गलती हुई वहीं लगभग 33 प्रतिशत का मानना था कि उन्होंने गलत संस्थान का चयन किया। इस अध्ययन के अनुसार अपने वर्तमान संस्थान और कोर्स से असंतुष्ट छात्र क्रमशः 39 और 30 प्रतिशत हैं। इसके बावजूद सिर्फ 29 प्रतिशत ने अपने संस्थान की कमियां बताई और केवल 13 प्रतिशत ने इनके खिलाफ आवाज उठाने की बात कही।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:एक तिहाई भारतीय छात्र अपनी शिक्षा से नाखुश