DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

देवघर में दुर्लभ बेलपत्रों की प्रदर्शनी

भारत के प्रसिद्घ तीर्थस्थलों में एक झारखंड के देवघर जिले के बाबा बैद्यनाथ धाम मंदिर में पुजरी वर्ग दुर्लभ बेलपत्रों की अनोखी प्रदर्शनी लगाते हैं। यहां बांग्ला पंचांग के अनुसार सावन संक्रांति के बाद प्रत्येक सोमवार को बेलपत्र की प्रदर्शनी लगायी जती है।

 बेलपत्र प्रदर्शनी में पुरोहित समाज के ही लोग हिस्सा लेते हैं, जिनमें ‘जनरैल’, ‘बरनैल’ तथा ‘बमबम बाबा’ सहित पांच समाज के लोग शामिल हैं।

बैद्यनाथ धाम के पुजरी दिवाकर मिश्र बताते हैं कि यह प्रदर्शनी बांग्ला पंचांग के मुताबिक सावन माह में संक्रांति के बाद प्रत्येक सोमवार की शाम को मंदिर परिसर में लगती है। दुर्लभ बेलपत्रों को इकट्ठा कर चांदी के थाल में चिपकाया जाता है और मंदिर में चढ़ाने के बाद इसे प्रदर्शनी में शामिल किया जाता है।

एक अन्य पुजारी उदय शंकर मिश्र का कहना है कि ऐसा नहीं कि किसी भी बेलपत्र को प्रदर्शनी में लाया जा सकता है। इस प्रदर्शनी में उन्हीं बेलपत्रों को शामिल किया जाता है, जिनकी खोज पुजारी समाज के लोग खुद जंगलों से करते हैं। उन्होंने बताया कि स्थानीय त्रिकुट पर्वत पर आज भी ऐसे कई बेल के वृक्ष हैं जो दुर्लभ हैं। इन्हीं वृक्षों के बेलपत्रों को इकट्ठा किया जाता है।

मिश्र ने बताया कि प्रदर्शनी में शामिल बेलपत्रों में दुर्लभ बेलपत्रों की पहचान बुजुर्ग परोहित करते हैं। अंतिम सोमवार को सबसे दुर्लभ तथा अद्भुत बेलपत्र लाने वाले पुजारी समाज को पुरस्कृत किया जाता है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:देवघर में दुर्लभ बेलपत्रों की प्रदर्शनी