अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जाते-जाते गौतम ने कहा, पुलिस को 21वीं सदी लायक बनाने के लिए सब कुछ किया

 बिहार के पुलिस महानिदेशक डी.एन.गौतम शुक्रवार को भारतीय पुलिस सेवा से रिटायर हो गए। पिछले वर्ष इसी दिन श्री गौतम ने शिवचंद्र झ से डीजीपी पद की जिम्मेवारी संभाली थी। पुलिस मुख्यालय में रिटायरमेंट की औपचारिकताएं पूरी करने के बाद श्री गौतम ने कहा कि डीजीपी पद के बारह महीनों का हर दिन उनके लिए चुनौतियों भरा रहा। बावजूद इसके इन एक वर्षों में उन्होंने प्रतिदिन बिहार पुलिस की बेहतरी के प्रयास किए।

बिहार पुलिस को इक्कीसवीं सदी की पुलिस बनाने के लिए जो कुछ भी हो सकता था वह किया। आने वाले पचास वर्षो में हमारी पुलिस की क्या तैयारी होगी उसको ध्यान में रखकर काम किया। कई ऐसे काम किए जो शायद देश में और पुलिस में पहली बार किया गया। उन्होंने कहा कि आज नहीं शायद दस वर्ष के बाद इस बात का मूल्यांकन कर पाएंगे कि आपने जिस बंदे पर भरोसा किया था वह उसपर कितना खरा उतरा।

गौतम ने कहा कि डीजीपी का पद प्रेशर पोस्ट है। डीजीपी का काम है कि वह सबकी सुनकर बिना भय और पक्षपात के निर्णय ले। बिहार पुलिस में शायद यह पहला ही मौका था जब डीजीपी रिटायर हो रहे थे और नए डीजीपी उनसे वह जिम्मेवारी लेने के लिए वहां मौजूद नहीं थे। अधिकारियों ने इसके पीछे की वहज बतायी कि नए डीजीपी आनंद शंकर नई जिम्मेदारी ‘खास मुहूर्त’ में लेना चाहते थे।

इधर श्री गौतम ने मीडिया से बातचीत में कहा कि मैंने खुद को कभी इस स्केल में नहीं रखा कि डीजीपी का कार्यकाल क्या है? हमेशा यह देखने की कोशिश की  कि गौतम का कार्यकाल क्या है? उन्होंने मीडिया को पुलिस की आंख और कान बताते हुए कहा कि जहां हमारी आंख और कान नहीं है वहां मीडिया ने यह कमी पूरी की है।

उन्होंने कोसी प्रलय और लोकसभा चुनाव में पुलिस की भूमिका की  भी चर्चा की। इसके पहले कार्मिक एवं प्रशासनिक सुधार विभाग के प्रधान सचिव आमिर सुबहानी सहित एडीजी(मुख्यालय), एडीजी विजिलेंस, पुलिस ऐकेडमी के निदेशक सहित एडीजी स्तर के अन्य अधिकारी, जोनल आईजी और डीआईजी स्तर के कई अधिकारियों ने उन्हें विदा किया।

हालांकि डीजी स्तर का कोई भी अधिकारी वहां मौजूद नहीं था। मुख्यालय की सीढ़ियों से उतरने के बाद गौतम ने बड़े अधिकारियों से लेकर कांस्टेबल तक से हाथ मिलाया और फिर परम्मपरा के अनुसार पोर्टिको में खड़ी उनकी कार को धक्का देने की औपचारिकता निभाई गयी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:डीपीपी के कार्यकाल का हर दिन चुनौतियों भरा रहा