DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

तीन दिनों से ग्रामीण ङोल रहे बिजली संकट

उपन्यास सम्राट मुंशी प्रेमचंद की जयंती के दिन शुक्रवार को भी उनके पैतृक गांव लमही में विद्युत आपूर्ति ठप रही। कमिश्नर सुरेश चन्द्रा व जिलाधिकारी एके उपाध्याय की मौजूदगी भी लमही गांव में बिजली नहीं पहुंचा सकी। अफसरों की मौजूदगी में विद्युत पोल के तारों को ठीक किया जा रहा था। कार्यक्रम के समापन के बाद विद्युत कर्मचारी पोल पर बिजली को ठीक करते नजर आये। बावजूद इसके बिजली आपूर्ति नहीं हो सकी।

प्रेमचंद स्मारक स्थल पर आयोजित महोत्सव में जब कमिश्नर सुरेश चन्द्रा व जिलाधिकारी एके उपाध्याय पहुंचे, उस समय भी बिजली नहीं थी। पूरा कार्यक्रम जनरेटर की गड़गड़हाट के बीच सम्पन्न हुआ। पता चला कि लमही गांव में तीन दिनों से बिजली गायब है। आयोजन समिति के लोगों ने विद्युत विभाग को इसकी जानकारी भी दी लेकिन बिजली की आपूर्ति ठीक नहीं की जा सकी।

प्रेमचंद स्मारक स्थल पर अफसरों के अलावा अन्य अतिथि भी घंटों मौजूद रहे, लेकिन कार्यक्रम की समाप्ति तक बिजली का अता-पता नहीं था। बाद में गांव में बिजली विभाग के कर्मचारी पहुंचे और पोल पर चढ़ कर तारों को ठीक करने लगे। उधर लमही गांववासियों का कहना है कि तीन दिनों से गांव में बिजली एकदम गायब है। यहां पर बल्ब तो ऐसे जलते हैं जैसे कोई लालटेन जल रही हो। प्रेमचंद सरोवर के पास लगा हाईमास्क भी बरसों से खराब पड़ा है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:कमिश्नर-डीएम की मौजूदगी भी नहीं पहुंचा सकी बिजली