DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

टोन्स, यमुना से नौ सौ मेगावाट बिजली का उत्पादन

ऊर्जा प्रदेश बनने को अग्रसर उत्तराखंड में टोन्स और यमुना नदी के जल से नौ सौ मेगावाट बिजली उत्पादन की दो राष्ट्रीय स्तर की परियोजनाएं शुरू की जा रही हैं।

देहरादून जिले में करीब पन्द्रह हजार करोड़ रुपये की लागत से टोन्स नदी पर किसाऊ बांध और यमुना नदी पर लखवाड बांध का निर्माण कर क्रमश छह सौ मेगावाट और तीन सौ मेगावाट बिजली का उत्पादन किया जाएगा। उत्तराखंड जल विद्युत निगम के अध्यक्ष योगेन्द्र प्रसाद ने बताया कि निगम की क्षमताओं और अनुभवो को देखते हुए राष्ट्रीय स्तर की ये दो परियोजनाए निगम को आवंटित की गई है। इनके निर्माण से न केवल उत्तराखंड बल्कि उत्तर भारत के अन्य राज्यों हरियाणा, पंजाब आदि के लिए भी सिंचाई पेयजल और बिजली उपलब्ध होगी।

उन्होंने बताया कि किसाऊ बांध परियोजना की ऊचाई 236 मीटर होगी इससे 600 मेगावाट बिजली के उत्पादन के साथ ही 616 एम सी एम पेयजल तथा 970 हैक्टेयर में सिचाई की सुविधा मिलगी। इस परियोजना में लगभग दस हजार करोड़ रुपये का निवेश होगा जिसमें से लगभग पांच हजार करोड़ रुपये भारत सरकार द्वारा विशेष सहायता के अन्तर्गत राज्य को नब्बे और दस के अनुपात में धनराशि मिलेगी।

इसी तरह लखवाड बांध की ऊंचाई 204 मीटर होगी जिसमे 300 मेगावाट बिजली के उत्पादन के साथ 222 एम सी एम पेयजल की सुविधा तथा 40 हजार हैक्टेयर सिंचाई सुविधा मिलेगी। प्रसाद ने बताया कि इस परियोजना पर पांच हजार करोड़ रुपये का निवेश होगा जिसमें भारत सरकार से विशेष राज्य की श्रेणी के तहत 2500 करोड़ रुपये की धनराशि प्राप्त होगी।

उन्होंने बताया कि निगम द्वारा निर्माणाधीन सभी परियोजनाओं को 11वीं और 12वीं पंचवर्षीय योजना के तहत पूरा करके राज्य को ऊर्जा के क्षेत्र में आत्म निर्भर बना लिया जाएगा। प्रसाद ने कल मुख्यमंत्री डा. रमेश निशंक पोखरियाल से भी मुलाकात करके इन परियोजनाओ के बारे में जानकारी दी। मुख्यमंत्री ने इनके साथ ही अन्य परियोजनाओ को शीघ्र पूरा करने के निर्देश दिए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:टोन्स, यमुना से नौ सौ मेगावाट बिजली का उत्पादन