DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दो टूक

खबर तो ये थी कि सरकारी स्टॉलों पर दाल बंट रही है। बाद में पता चला कि जूतियों में दाल बंट रही है। दिल्ली की आबादी है डेढ़ करोड़। पांच मेंबर फी फैमिली के हिसाब से हुए 30 लाख परिवार। उनके लिए सिर्फ 80 स्टॉल! मतलब 37 हजार परिवारों के लिए सिर्फ एक स्टॉल! इसमें अब कुप्रबंधन और देरी जोड़ लीजिए। नतीजा वही होगा जो बुधवार और वीरवार को दिखा। दाल के पैकेट देर से आए और जल्दी खत्म हो गए। न जाने कितनों के लिए सारी कवायद शोशा बनकर रह गई। फिर रेट भी कौन से कम हैं? खुले बाजार में अरहर मिल रही है 80 रुपए। स्टॉल पर रेट है 75 रुपए। पांच रुपए के लिए कौन फजीहत कराएगा? अच्छा होगा कि पब्लिक मुहावरा ही बदल दे। अब कहना चाहिए-ये मुंह और अरहर की दाल!

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:दो टूक