अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जब नींद न आए

अगर आपको नींद नहीं आती तो यह समस्या इनसोमनिया हो सकती है। पर्याप्त और अच्छी नींद न आने का कारण हार्मोन परिवर्तन, दबाव, मानसिक असंतुलन और ड्रग्स लेना भी हो सकता है, लेकिन घबराएं नहीं। संतुलित भोजन, जीवन शैली में कुछ परिवर्तन और जड़ी-बूटियों के प्रयोग के माध्यम से आप इसका इलाज कर सकते हैं। आइए गौर करते हैं कुछ खास बातों पर -
- कैफिन ड्रिंक्स जैसे कॉफी, चाय, कोला के जरिए शरीर में एड्रेनालिन पहुंचता है जो नींद आने में बाधा उत्पन्न करता है।
- खाने में अधिक नमक का इस्तेमाल करना भी इनसोमनिया का कारण बनता है।
- विटामिन बी की कमी भी इनसोमनिया और सामान्य तनाव के लक्षण से जुड़ा है। रात के खाने में विटामिन बी वाले पदार्थो को शामिल करें। रात के खाने में मछली या चिकन भी ले सकते हैं। उनमें विटामिन बी-3 प्रचुर मात्रा में पाया जाता है।
- कमजोर समावेशन के कारण कैल्शियम का अभाव या पोषक तत्वों का अभाव भी इनसोमनिया का कारण है।
- किसी बात को लेकर अधिक क्रिया-प्रतिक्रिया के कारण भी नींद नहीं आती।
- सोने से पहले एक गिलास गरम दूध काफी सहायक हो सकता है क्योंकि दूध में एमीनोएसिड-ट्रायप्टोफान पाया जाता है जो आराम की नींद लाने में सहायता करता है।
- मैग्नीशियम का अभाव घबराहट पैदा करता है जिससे नींद नहीं आती। इसलिए गेहूं, मूंगफली समेत मैग्नीशियम तत्व वाले पदार्थो को खाने में शामिल करें।
- रोज ध्यान करें। मधुर संगीत सुनें, अपने बेडरूम से इलैक्ट्रोनिक उपकरणों को दूर रखें, गर्म तेल से रोज मसाज करें। प्राणायाम, मकरासन और शवासन का रोज अभ्यास करें।
- आयुर्वेद के मुताबिक इनसोमनिया का कारण वात है। ब्राह्मी, अश्वगंधा और जटामंसी इस समस्या में सहायक हो सकते हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:जब नींद न आए