DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

वाडा नियमों को लेकर बीसीसीआई दुविधा में

वाडा नियमों को लेकर बीसीसीआई दुविधा में

भारत के शीर्ष क्रिकेटर विवादास्पद डोपिंग रोधी करार पर हस्ताक्षर करने में हिचकिचाहट महसूस कर रहे हैं क्योंकि उन्हें लगता है कि इससे उनके निजी जीवन में हस्तक्षेप होगा, जिससे भारतीय क्रिकेट बोर्ड मुश्किल में पड़ गया है।

अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) ने अपने सभी मान्यता प्राप्त सदस्यों से एक अगस्त तक उनके खिलाड़ियों से विश्व डोपिंग रोधी एजेंसी (वाडा) के फार्म पर हस्ताक्षर करवाने के लिए कहा है, जिससे बीसीसीआई के पास इन अनिच्छुक खिलाड़ियों से बातचीत करने का काफी कम समय बचा है।

क्रिकेटर इस धारा से नाखुश हैं, जिसके अंतर्गत उन्हें प्रत्येक दिन एक घंटे अपनी उपलब्धता की विस्तृत जानकारी देनी होगी जिससे वाडा के अधिकारी बिना सूचना के टूर्नामेंट के बाहर कभी भी उनकी जांच कर सकें। खिलाड़ियों को एक अगस्त तक व्हेयरअबाउट अपडेट फार्म को भरने के लिए कहा गया है, लेकिन उन्होंने अभी तक ऐसा नहीं किया है क्योंकि ज्यादातर खिलाड़ी इसके खिलाफ हैं।

क्रिकेटरों को लगता है कि इस धारा से उनकी निजी जिंदगी में दखल ही नहीं होगा बल्कि यह उनके लिए मुश्किल भी साबित होगा क्योंकि अगले दो महीने तक उन्हें कोई टूर्नामेंट नहीं खेलना और उन्हें अपने कार्यक्रम की जानकारी नहीं है।

वाडा के नियमों के मुताबिक अगर कोई खिलाड़ी 18 महीने तक तीन डोपिंग टेस्ट नहीं कराता तो उसे दो साल के प्रतिबंध का सामना करना पड़ सकता है।

बीसीसीआई के शीर्ष अधिकारी ने कहा कि इस धारा के बारे में खिलाड़ी थोड़े हिचकिचा रहे हैं। उन्होंने बीसीसीआई को अपनी चिंता व्यक्त कर दी है। हम देख रहे हैं कि क्या किया जा सकता है। बीसीसीआई ने इस मुद्दे का हल निकालने के लिए रविवार को मुंबई में कार्यकारी समिति की आपात बैठक बुलाई है।

अधिकारी ने कहा कि बीसीसीआई ने खिलाड़ियों की उपलब्धता की धारा की हिचकिचाहट के बारे में आईसीसी को बता दिया है। आईसीसी को बताया गया है कि खिलाड़ी वाडा नियम की कुछ धाराओं के बारे में चिंतित हैं और इससे बीसीसीआई के लिए एक अगस्त की सीमा तक ऐसा करना मुश्किल होगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:वाडा नियमों को लेकर बीसीसीआई दुविधा में