अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पाक से दाऊद समेत 42 भगोड़ों की मांग

पाक से दाऊद समेत 42 भगोड़ों की मांग

भारत ने गुरुवार को साफ शब्दों में कहा कि इस्लामाबाद की अनिच्छा के बावजूद वह पाकिस्तान के साथ संबंध सुधारने के लिए अपनी कोशिशें जारी रखेगा और पाक से दाऊद इब्राहिम समेत 42 भगोड़ों की मांग की गई है।

विदेश मंत्री एसएम कृष्णा ने राज्यसभा में प्रश्नकाल के दौरान बताया इस्लामाबाद की अनिच्छा के बावजूद भारत पाकिस्तान के साथ संबंधों में सुधार के प्रयास करता रहेगा। विदेश मंत्री ने एक पूरक प्रश्न के उत्तर में बताया संबंध सुधारने के लिए मदद करने की पाकिस्तान की अनिच्छा के बावजूद, भारत उसे यह समझाने की कोशिश करता रहेगा कि हमें अच्छे पड़ोसी संबंध बनाने होंगे।

उन्होंने बताया कि पाकिस्तान ने एक प्रत्यर्पण संधि करने के हमारे प्रयासों का सकारात्मक जवाब नहीं दिया है। उन्होंने कहा कि हमने पाकिस्तान के साथ प्रत्यर्पण संधि करने के लिए 11 बार प्रयास किए लेकिन हमारे प्रयास नाकाम रहे। कृष्णा ने बताया हम पाकिस्तान से बार-बार कहते रहे हैं कि प्रत्यर्पण संधि करना दोनों देशों के हित में है। सरकार पाकिस्तान की सरकार को भारत के साथ सहयोगात्मक संबंध विकसित करने के लिए मनाने की कोशिश कर रही है। बहरहाल, विदेश मंत्री ने उम्मीद जताई कि पाकिस्तान भारत की भावनाओं को समझेगा।

विदेश मंत्री ने यह भी बताया कि भारत ने पाकिस्तान से दाउद इब्राहिम सहित 42 भगोड़े आरोपियों को सौंपने के लिए कहा है लेकिन इस्लामाबाद ने सहयोगात्मक रवैया अपनाने से इनकार कर दिया। कृष्णा ने भाजपा के प्रकाश जावड़ेकर के पूरक प्रश्न के उत्तर में बताया कि भारत ने 42 भगोड़े आरोपियों की सूची पाकिस्तान को दी है। इन 42 आरोपियों में कुछ भारतीय नागरिक हैं और कुछ पाकिस्तानी नागरिक हैं। इनमें मुंबई के 1993 के श्रृंखलाबद्ध बम विस्फोटों और मुंबई में ही गत 29 नवंबर को हुए आतंकवादी हमलों के आरोपी शामिल हैं।

उन्होंने बताया पाकिस्तान को जो भी सबूत और डोजियर दिए गए हैं, उन्हें वह अपर्याप्त बताते हुए कहता है कि अदालत में दोष साबित नहीं किया जा सकता। विदेश मंत्री ने कहा कि पाकिस्तान दाउद इब्राहिम, टाइगर मेनन, छोटा शकील और लखबीर सिंह जैसे कुख्यात अपराधियों की अपने यहां मौजूदगी से इनकार करता है। उन्होंने बताया कि इन सभी अपराधियों के नाम उस सूची में हैं जिसे भारत ने पाकिस्तान को दिया है।

कृष्णा ने कहा पाकिस्तान अपने नागरिकों के लिए प्रत्यपर्ण संधि न होने और सबूतों के अभाव की दलील देता है। हमने पाकिस्तान के साथ प्रत्यर्पण संधि करने के लिए 11 बार प्रयास किए लेकिन हमारे प्रयास नाकाम रहे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:पाक से दाऊद समेत 42 भगोड़ों की मांग