अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दो टूक

बारिश के बाद निगम के मलेरिया-डेंगू रोकथाम दस्ते अचानक सक्रिय हो गए हैं। वे घर-घर जा रहे हैं। छतों पर पड़े गमलों और बरामदों में रखे कूलर चेक कर रहे हैं। कहीं पानी एकत्र दिखा तो चालान काट रहे हैं। कवायद तो बहुत अच्छी है पर कुछ सवाल हैं। कूलर-गमलों में जमा पानी में पलने वाले मच्छर तो आपने देख लिए, लेकिन सारी दिल्ली में जगह-जगह जो बारिश का पानी भर गया है उसमें उपजने वाले मच्छरों का क्या?

घर में मच्छर न पलने देने की जिम्मेदारी पब्लिक की है। लेकिन सड़कों और नालियों में पलने वाले मच्छरों की रोकथाम की जिम्मेदारी किसकी है? एक बरसात में पूरे शहर को शर्म से पानी-पानी कर देने वाली बदइंतजामी पर किसका चालान कटा? खुद निगम के कितने अफसरों पर एक्शन हुआ? निगम कृपया बताए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:दो टूक