DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सरकार द्वारा दाल बेचने की मुहीम

सचिवालय सेमेत कई जगहों पर देर से शुरू हुई बिक्री
लोगों की लगी भीड़, देर की वजह से विफरे लोग
खाद्य व आपूर्ति मंत्री ने बलाई विभाग की बैठक

दिल्ली सरकार द्वारा सस्ती दरों पर दाल उपलब्ध कराने की योजना पहले दिन डगमगाने लगी। सचिवालय समेत कई जगहों पर दाल देर से पहुंची। जिस वजह से लोगों को काफी इंतजार करना पड़ा। भीड़ की वजह से अफरातफरी का महौल उत्पन्न हो गया। लोग वहां मौजूद कर्मचारियों पर काफी बिफरे। उधर, देर शाम खाद्य व आपूर्ति मत्री हारुन यूसुफ ने विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों की बैठक बुलाकर स्थिति को ठीक करने का निर्देश दिया। उन्होंने कहा कि गुरुवार से व्यवस्था पूरी तरह ठीक हो जाएगी।


गौरतलब है कि दाल की बढ़ती कीमतों को देखते हुए पिछले दिनों दिल्ली सरकार ने सस्ती दरों (होल सेल रेट) पर दाल बेचने का फैसला किया था। राजधानी के 70 विधानसभा स्थित खाद्य व आपूर्ति कार्यालय, 9 सहायक आयुक्तों के कार्यालय और एक सचिवालय में स्टॉल लगाने की योजना तैयार की गई। पिछले एक हफ्ते से कवायद करने के बाद मंगलवार को मुख्यमंत्री शीला दीक्षित ने सचिवालय में दाल बेचने की योजना का शुभारंभ किया। आम लोगों के लिए बुधवार से दाल स्टॉल शुरू हुआ, लेकिन पहले ही दिन सरकारी तंत्र की असफलता सामने आ गई। दाल लेने के लिए सवेरे से लोग स्टॉल पर पहुंचने लगे थे, लेकिन आलम यह था कि वहां दाल नहीं थी। स्टॉलों पर दाल समय से नहीं पहुंचने के कारण वहां मौजूद कर्मचारियों को लोगों का कोपभाजन बनना पड़ा। यहां तक कि सचिवालय में स्थित स्टॉल पर दाल की बिक्री 9.30 बजे की बजाए 11.00 बजे शुरू हुई।


खाद्य व आपूर्ति मंत्री ने पहले दिन मची अफरातफरी को देखते हुए देर शाम विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों की बैठक बुलाई। युसूफ ने 25-30 स्टॉल पर देर से दाल पहुंचने की बात कबूल करते हए कहा कि जिन ट्रकों से दाल भेजी गई थी, उसे कार्यालयोंक खोजने में देर हुई। उन्होंने कहा कि सरकार लोगों को राहत पहुंचाने के लिए कटिबद्ध है। व्यवस्था को ठीक करने के लिए अधिकारियों को निर्देश दिया गया है। उन्होंने कहा कि गुरुवार से सभी स्टॉल समय से कार्य करने लगेंगे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:सरकार द्वारा दाल बेचने की मुहीम