DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

भाइयों की जंग

अनिल अंबानी ने पेट्रोलियम मंत्रालय पर या कि पेट्रोलियम मंत्री मुरली देवड़ा पर आरोप लगाया कि प्राकृतिक गैस आवंटन के मामले में वे उनके भाई मुकेश अंबानी का साथ दे रहे हैं। इस मामले को मुलायम सिंह यादव ने भी संसद में उठाया। गैस की कीमत का विवाद फिलहाल सुप्रीम कोर्ट में है और वहां दोनों पक्षों के गुण-दोषों की जांच करके ही फैसला होगा, लेकिन कुछ व्यापक मुद्दे इस मामले में उठते हैं और इन पर चर्चा की जा सकती है। सुप्रीम कोर्ट में भारत सरकार भी इस मामले में कूद पड़ी है और सरकार का कहना है कि प्राकृतिक गैस देश की संपत्ति है और इस बारे में दोनों भाई मिल कर या झगड़कर कोई फैसला नहीं कर सकते। सरकार की बात एकदम सही है, लेकिन इस बात पर ध्यान देना जरूरी है कि जब गैस फील्ड काआवंटन किया गया था और गैस आवंटन का समझोता किया गया, तब दोनों भाइयों के बीच झगड़ा नहीं हुआ था और रिलायंस एक ही समूह था।

अगर मान लिया जाए कि ये दोनों भाई नहीं झगड़ते और रिलायंस साम्राज्य का बंटवारा नहीं होता, तो समझोते को लेकर भी शायद कोई झगड़ा नहीं होता, न मामला अदालत में जाता न मीडिया में उछलता। तब सरकार कहां यह बयान देती कि दोनों भाई आपस में कैसे गैस की कीमत तय कर सकते हैं। तब यह भी न होता कि दोनों भाई अलग-अलग राजनैतिक शक्तियों के मित्र होते और तब राजनैतिक पक्षपात का आरोप भी न लगता। जब तक धीरूभाई अंबानी इस दुनिया में थे, तब तक कोई भी ऐसी समस्या नहीं आई। दरअसल लाइसेंस परमिट राज के दौरान राजनैतिक संबंधों के बिना तरक्की करना मुश्किल था, लेकिन इस तरह से फली-फूली व्यावसायिक संस्कृति देश के विकास के लिए ज्यादा फायदेमंद नहीं होती। खुले बाजार के युग में व्यावसायिक कौशल और प्रतिस्पर्धा जरूरी है, जिसमें नियमों का कड़ाई से पालन हो, वरना जिस तरह का ‘क्रोनी कैपिटलिज्म’ विकसित होगा वह एकाधिकार और नाजायज मुनाफाखोरी को जन्म देगा, जैसा तीसरी दुनिया की छोटी-मोटी अनेक तानाशाहियों के राज में देखा गया है। हम मान सकते हैं कि रिलायंस की समस्या की जड़ें लाइसेंस परमिट राज और उसके बाद उदारीकरण के शुरुआती चरण में पैदा हुईं, लेकिन सरकार को यह सुनिश्चित करना होगा कि देश में उद्योग-व्यापार के लिए निष्पक्ष नियमों पर आधारित खुला माहौल हो और राजनीति इन मामलों से थोड़ी दूर ही रहे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:भाइयों की जंग