अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सरकार कुछ सब्सिडी तुरंत बंद कर दे: रघुराम

सरकार कुछ सब्सिडी तुरंत बंद कर दे: रघुराम

प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के आर्थिक सलाहकार रघुराम राजन ने कहा है कि मुद्रास्फीति को बढ़ने से रोकने के लिए केन्द्र सरकार को भारी वित्तीय घाटा नियंत्रित करने के उपाय खोजने चाहिए। वर्ष 2009 में सकल घरेलू उत्पाद का बजट घाटा 6.8 प्रतिशत रहने की संभावना है।

यह पिछले 16 वर्षों में सर्वाधिक है। इसके मद्देनजर सरकार को चालू वित्त वर्ष में अप्रत्याशित रूप से 451 खरब रुपये के बौंड बेचने को बाध्य होना पड़ेगा। राजन ने कहा कि तत्काल सबसे बड़ा जोखिम भारी वित्तीय घाटा है और इसे भारतीय रिजर्व बैंक के माध्यम से राशि जुटाकर पूरा किया जाएगा जिसमें मुद्रास्फीति बढ़ सकती है।

उन्होंने कहा कि हालांकि सरकार के उर्वरकों पर सब्सिडी में कटौती करने और इसे सीधे किसानों को नकदी के रूप में उपलब्ध कराने तथा ईंधन के मूल्यों को अंतरराष्ट्रीय बाजार के अनुरूप रखने के वायदे से वित्तीय घाटा कम करने में मदद मिलेगी। राजन ने कहा कि जितनी जल्दी ईंधन के मूल्य अंतरराष्ट्रीय बाजार से जोड़ दिए जाएंगे उतनी जल्दी ही बजट घाटा कम हो जाएगा।

उन्होंने कहा कि बजट घाटा को पूरा करने के लिए सार्वजनिक क्षेत्र की कुछ कंपनियों में हिस्सेदारी बेचे जाने की संभावना है लेकिन वित्तीकरण की ओर तेजी से बढ़ने की बहुत कम संभावना है क्योंकि कांग्रेस की अभी भी गंठबंधन सरकार है। कांग्रेस में भी वामपंथी गुट है जिसके कारण निजीकरण या श्रम सुधार के लिए अभी प्रतीक्षा करना पड़ेगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:सरकार कुछ सब्सिडी तुरंत बंद कर दे: रघुराम