अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नवनियुक्त डीजीपी के बयान को लेकर परिषद में हंगामा

बिहार विधान परिषद में विपक्षी सदस्यों ने राज्य के नवनियुक्त पुलिस महानिदेशक के बयान को लेकर बुधवार को भी भारी हंगामा किया। जिसके कारण सदन की कार्यवाही भोजनावकाश से पूर्व ही स्थगित करनी पड़ी।
 प्रश्नोत्तर काल के समाप्त होने के बाद राष्ट्रीय जनता दल के प्रो नवल किशोर यादव ने कहा कि नवनियुक्त पुलिस महानिदेशक ने कल अपने बयान में कहा है कि अधिकारियों को रिश्वतखोरी बंद कर तनख्वाह से काम चलाना पड़ेगा। उन्होंने कहा कि अब तक यदि रिश्वत से ही काम चल रहा था तो सरकार इसके लिए जवाबदेह है।
 यादव ने कहा कि सरकार कह रही है कि सुशासन है और यदि सरकार इस पर कुछ नहीं कहती तो इसका मतलब होगा कि इसका वह समर्थन कर रही है। इस पर राजद और लोक जनशक्ति पार्टी के सदस्य हंगामा करने लगे।

हंगामे के बीच ही उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कहा कि किसने कहा है कि भ्रष्टाचार खत्म हो गया है। भ्रष्टाचार को रोकने का प्रयास किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि पुलिस महानिदेशक का यह कहना है कि जो पुलिसकर्मी रिश्वत ले रहे हैं। वह अब नहीं चलेगा। उन्होंने कहा कि पुलिस महानिदेशक के इस बयान का स्वागत करना चाहिए। उन्होंने कहा कि राजद के 15 वर्षों के कार्यकाल में भी रिश्वत को रोकने का प्रयास किया गया था।
 मोदी के इतना कहते ही राजद और लोजपा के सदस्य जोरजोर से बोलने लगे। जिससे सदन हंगामे में डूब गया। इसके बाद राजद के प्रो. नवल किशोर यादव, मुद्रिका सिंह यादव, बादशाह प्रसाद आजाद, डा राम बचन राय, तनबीर हसन और लोजपा की रोमा भारती सदन के बीच में आकर नारेबाजी करने लगे। सदन को अव्यवस्थित होते देख कार्यकारी सभापति प्रो अरुण कुमार ने सदन की कार्यवाही भोजनावकाश से दस मिनट पूर्व ही स्थगित कर दी।
 इससे पूर्व सदन की कार्यवाही 12 बजे शुरु होने के साथ ही राजद के नवल किशोर यादव ने इस मामले को उठाया लेकिन कार्यकारी सभापति के यह कहने पर कि उसे देखेंगे। इस पर श्री यादव अपनी सीट पर बैठ गए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:नवनियुक्त डीजीपी के बयान को लेकर परिषद में हंगामा