अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मैरीकोम, विजेंदर व सुशील की तिकड़ी को खेल रत्न

मैरीकोम, विजेंदर व सुशील की तिकड़ी को खेल रत्न

भारतीय खेल इतिहास में पहली बार प्रतिष्ठित राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार तीन खिलाड़ियों मुक्केबाज एमसी मैरीकोम और विजेंदर सिंह तथा पहलवान सुशील कुमार को दिया जाएगा।

इससे पहले देश के इस सबसे बड़े खेल पुरस्कार को 1996-97 और 2002-03 में संयुक्त रूप से दो-दो खिलाड़ियों को दिया गया था लेकिन पहली बार तीन खिलाड़ियों को 2008-09 के लिए इस पुरस्कार के लिए चुना गया है। चार बार की वर्ल्ड चैंपियन मैरीकोम और ओलंपिक कांस्य पदक विजेता विजेंदर इस पुरस्कार को पाने वाले पहले मुक्केबाज होंगे जिसमें सात लाख 50 हजार रुपये की पुरस्कार राशि और प्रशस्ति पत्र दिया जाता है। बीजिंग ओलंपिक खेलों के कांस्य पदक विजेता सुशील भी पहले पहलवान हैं जिन्हें यह पुरस्कार मिलेगा। उन्होंने कुश्ती में 56 साल बाद ओलंपिक में पदक दिलाया था।

खेल मंत्रालय के मुताबिक आमतौर पर खेल रत्न साल में एक खिलाड़ी को ही दिया जाता है लेकिन विजेंदर और सुशील के बेहतरीन प्रदर्शन को देखते हुए खेल मंत्रालय ने मैरीकोम के अलावा इन दोनों को भी विशेष मामले में राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार देने की चयनसमिति की सिफारिश स्वीकार कर ली।

स्टार क्रिकेटर गौतम गंभीर, बैडमिंटन स्टार साइना नेहवाल, वर्ल्ड रिकार्ड धारक डबल ट्रैप निशानेबाज रंजन सोढ़ी, हाकी खिलाड़ी इग्नेस टिर्की और शतरंज खिलाड़ी तानिया सचदेवा उन 15 खिलाड़ियों में शामिल हैं जिन्हें अर्जुन पुरस्कार के लिए चुना गया है। बीस वर्षीय सायना अभी वर्ल्ड में छठे नंबर की खिलाड़ी हैं। वह इंडोनेशियाई सुपर सीरीज और दो अन्य टूर्नामेंट जीतकर इस पायदान पर पहुंची हैं।

पूर्व आल इंग्लैंड चैंपियन और सायना के कोच पुलेला गोपीचंद और बीजिंग ओलंपिक के लिए सुशील को कोचिंग देने वाले महाबली सतपाल द्रोणाचार्य पुरस्कार के लिए चुने गए प्रशिक्षकों में शामिल हैं।
राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल 29 अगस्त को खेल दिवस पर राष्ट्रपति भवन में आयोजित समारोह में पुरस्कार प्रदान करेंगी।

पच्चीस वर्षीय मैरीकोम ने अब तक की सभी पांचों वर्ल्ड चैंपियनशिप में अपने भार वर्ग 46 किग्रा में पदक जीता। उन्होंने पिछले साल चीन में आयोजित वर्ल्ड चैंपियनशिप में लगातार चौथा स्वर्ण पदक जीता था। इस मणिपुरी मुक्केबाज को इससे पहले 2004 में अर्जुन पुरस्कार और 2006 में पद्मश्री से सम्मानित किया गया था।

मैरीकोम ने कहा कि मैं बहुत सम्मानित महसूस कर रही हूं। इस पुरस्कार से मेरा लगातार अच्छा प्रदर्शन करने के लिए मनोबल बढ़ेगा। दो बच्चों की मां मैरीकोम पिछले साल भी खेल रत्न की दौड़ में थी लेकिन तब भारतीय क्रिकेट कप्तान महेंद्र सिंह धोनी को यह पुरस्कार दिया गया था।

बाईस वर्षीय विजेंदर (75 किग्रा) ओलंपिक पदक जीतने वाले पहले मुक्केबाज बने थे। उन्होंने पिछले महीने चीन में एशियाई चैंपियनशिप में भी कांस्य पदक जीता था। दूसरी तरफ सुशील ने पिछले महीने डोर्टमंड में जर्मन ग्रां प्री में स्वर्ण पदक जीता था जो ओलंपिक कांस्य पदक हासिल करने के बाद उनकी पहली प्रतियोगिता थी।

मैरीकोम को जहां खेल रत्न के लिए चुना गया है वहीं एक अन्य महिला मुक्केबाज एल सरिता देवी (52 किग्रा) को अर्जुन पुरस्कार के लिए चुना गया है। सरिता ने पिछले साल वर्ल्ड चैंपियनशिप में रजत और 2006 में दिल्ली में हुई चैंपियनशिप में स्वर्ण पदक जीता था।

पिछले साल टेस्ट और वनडे में शानदार प्रदर्शन करने वाले गंभीर पिछले साल में अर्जुन पुरस्कार हासिल करने वाले पहले पुरुष क्रिकेटर हैं। उनसे पहले हरभजन सिंह को 2003 में यह पुरस्कार दिया गया था। महिला क्रिकेटर अंजुम चोपड़ा को 2007 में इस पुरस्कार से सम्मानित किया गया था।

खिलाड़ियों और कोचों के अलावा खेलों के विकास में योगदान देने के लिए इस साल सरकार ने नए पुरस्कार राष्ट्रीय खेल प्रोत्साहन पुरस्कार की भी शुरुआत की। इसके चार वर्ग सामुदायिक खेल विकास, खेल अकादमियों का संवर्धन, चोटी के खिलाड़ियों को सहयोग और खिलाड़ियों को रोजगार शामिल हैं। अर्जुन, ध्यानचंद और द्रोणाचार्य पुरस्कार विजेताओं को मूर्ति, प्रशस्ति पत्र और पांच लाख रुपये दिए जाते हैं। राष्ट्रीय खेल प्रोत्साहन पुरस्कार को ट्राफी और प्रशस्ति पत्र दिया जाएगा।

पुरस्कार पाने वाले खिलाड़ियों की सूची इस प्रकार है-

राजीव गांधी खेल रत्नः एमसी मैरीकोम (मुक्केबाजी), विजेंदर सिंह (मुक्केबाजी) और सुशील कुमार (कुश्ती)।
अर्जुन पुरस्कारः मंगल सिंह चम्पिया (कुश्ती), के सिनिमोल पाउलोज (एथलेटिक्स), सायना नेहवाल (बैडमिंटन), एल सरिता देवी (मुक्केबाजी), तानिया सचदेवा (शतरंज), गौतम गंभीर (क्रिकेट), इग्नेस टिर्की (हाकी), सुरिंदर कौर (हाकी), पंकज शिरसाट (कबड्डी), पारूल डी परमार (बैडमिंटन-विकलांग), सतीश जोशी (रोइंग), रंजन सोढ़ी (निशानेबाजी), पोलोमी घटक (टेबल टेनिस), योगेश्वर दत्त (कुश्ती), जीएल यादव (याचिंग)।
ध्यान चंद पुरस्कारः इशार सिंह देओल (एथलेटिक्स), सतबीर सिंह दहिया (कुश्ती)।
द्रोणाचार्य पुरस्कारः बलदेव सिंह (हाकी), जयदेव बिष्ट (मुक्केबाजी), सतपाल (कुश्ती), पुलेला गोपीचंद (बैडमिंटन)।
राष्ट्रीय खेल प्रोत्साहन पुरस्कार 2009: टाटा स्टील लिमिटेड (सामुदायिक खेल और युवा खिलाड़ियों को तैयार करने के लिए):, टाटा स्टील लिमिटेड (खेल अकादमी की स्थापना और प्रबंधन), रेलवे खेल संवर्धन बोर्ड (खिलाड़ियों को रोजगार)।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मैरीकोम, विजेंदर व सुशील की तिकड़ी को खेल रत्न