DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

साइबर सिटी में भी मेट्रो पिलर्स में तीन जगहों पर हैं दरार

27 किलोमीटर के दिल्ली-गुड़गांव मेट्रो स्ट्रेच में साइबर सिटी के दायरे में भी मेट्रो पिलर्स में तीन जगहों पर हल्की दरारें(हेयरलाइन) मिलने से मेट्रो प्रबंधन की सिरदर्दी बढ़ने लगी है। हालांकि, उनका  दावा है कि अगले साल जनवरी तक गुड़गांव वासी भी इसमें सफर कर सकेंगे। अब तक, 90 फीसदी सिविल इंजीनियरिंग से जुड़े काम पूरे कर लिए गए हैं, जबकि इलेक्ट्रीकल व अन्य कार्यो के लिए भी तैयारियां जोरों पर हैं।


लगातार एक के बाद एक मेट्रो निर्माण के दौरान हादसे और तकनीकी कमियों के मद्देनजर डीएमआरसी, गुड़गांव प्रोजेक्ट को पूरा करने की दिशा में हरेक कदम फूंक-फूंक कर बढ़ा रही है। इन सभी पर विस्तृत जांच चल रही है और रिपोर्ट मिलने के बाद आगे कदम बढ़ाया जएगा। उन्होंने बताया कि जनवरी, 2010 तक निर्माण कार्य पूरा कर लिया जाएगा। हालांकि, कई जगहों पर अभी भी नियमों की अनदेखी का नमूना देखा जा सकता है। कुछ जगहों पर निर्माण से जुड़े वेंडर्स की ओर से भी मनमानी का सिलसिला जारी है। करीब आठ महीने पहले क्रेन से दुर्घटना होने पर एक व्यक्ति की मौत हो गई थी, जबकि इसके बाद में भी छोटी दुर्घटनाओं की शिकायतें मिलती रही हैँ। निर्माण के जिम्मा दूसरी कंपनियों को सौँपे जने से कई बार मानकों की अनदेखी कर दी जाती है। इस बारे में मेट्रेा के आधिकारिक सूत्र के मुताबिक सुरक्षा मानकों पर खास ध्यान देने पर ही दिल्ली गुड़गांव मेट्रो में तीन जगहों पर दरार होने की बात सामने आई। उन्होंने कहा कि इसकी सधन जंच की ज रही है। अगर, जांच के बाद किसी पिलर या संबंधित क्षेत्र में कोई बदलाव की जरुरत हुई तो ऐसा भी किया जाएगा। उन्होंने सुरक्षा मानकों की अनदेखी करने वाले कंपनियों के खिलाफ सख्ती की जाएगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:साइबर सिटी में भी मेट्रो पिलर्स में हैं दरार