DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

19 छात्राओं पर 9.5 लाख का जुर्माना, स्कॉलरशिप वापस

देश के सर्वोच्च सूचना प्रौद्योगिकी संस्थानों में से एक भारतीय सूचना प्रौद्योगिकी संस्थान (ट्रिपलआईटी) भी रैगिंग से अछूता नहीं है। ट्रिपलआईटी की 19 बीटेक छात्रओं को प्रथम वर्ष की छात्राओं के साथ रैगिंग करते पकड़ा गया है। ट्रिपलआईटी प्रशासन ने इस मामले पर कार्रवाई करते हुए इन छात्राओं पर 9.5 लाख रुपए का दण्ड लगाया है। इसके साथ ही इन सभी छात्राओं को मिलने वाली स्कालरशिप भी वापस ले ली गई है।

बीटेक भाग दो की 19 छात्रएँ 19 जुलाई की रात में बीटेक प्रथम वर्ष की छात्रओं के साथ रैगिंग कर रहीं थीं। घटना की जानकारी होते ही हॉस्टल की वार्डेन डॉ. श्वेता सिंह ने पूरे मामले की जाँच की। घटना सही साबित होने के बाद उन्होंने इसकी जानकारी संस्थान के निदेशक प्रो. एमडी तिवारी को दी।

संस्थान के निदेशक प्रो. तिवारी ने कहा कि इन छात्राओं के खिलाफ अपने से जूनियर नव प्रवेशी छात्रओं के साथ अभद्रता एवं रैगिंग का आरोप सच पाया गया है। उनका कहना था कि समय-समय संस्थान की छात्रओं को ऐसी गतिविधियों में न शामिल होने की चेतावनी दी जाती रही है।

इसके बाद भी ऐसी घटना का होना उन्हें भीतर तक आहत कर गया है। उन्होंने कहा कि भविष्य में ऐसी कोई घटना न हो इसके लिए प्रत्येक छात्र पर 50 हजार रुपए का जुर्माना लगाने के साथ उनकी छात्रवृत्ति भी वापस ले ली गई है। इन छात्रओं को लगाया गया दण्ड 14 अगस्त तक जमा करना होगा।

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:ट्रिपलआईटी में लड़कियों ने ली रैगिंग