अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

स्कूलों में नहीं जाती थीं शिक्षिकाएं

प्राथमिक स्कूलों में शिक्षकों की उपस्थिति के बारे में किसी से छिपा नहीं है। ग्रामीण इलाकों में तो और बुरा हाल है। मंगलवार को ग्रामीण क्षेत्रों में स्थित दो स्कूलों में अधिकारियों ने औचक निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान अधिकारियों ने ब्रिंदा गुप्ता और रुचि अग्रवाल नामक दो शिक्षिकाओं को अनपुस्थित पाया। दोनों महिलाएं महीने में दो या तीन दिन ही स्कूल जती थीं।


मंगलवार को खाद्य व आपूर्ति अधिकारी ने दनकौर ब्लॉक स्थित आच्छेपुर और चांदपुर दो गांवों का दौरा किया। इस दौरान पूर्ति अधिकारी ने दोनों ही गांवों में स्थित प्राथमिक स्कूलों का औचक निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान चांदपुर प्राथमिक स्कूल की शिक्षिका बिं्रदा गुप्ता और अच्छेज प्राथमिक स्कूल की शिक्षिका रुचि अग्रवाल अनुपस्थित पाई गईं। ग्रामीणों व स्कूल के छात्रों ने बताया कि दोनों ही शिक्षिकाएं महीने में दो या तीन दिन ही स्कूल आती हैं। ग्रामीणों व छात्रों की शिकायत पर पूर्ति अधिकारी ने दोनों ही शिक्षिकाओं के खिलाफ कार्रवाई की अनुशंसा की है।


उधर, दोनों ही गांवों में संपन्न हुई ग्राम सभा की बैठक में विभिन्न योजनाओं के लिए 85 लाभार्थियों का चयन हुआ।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:स्कूलों में नहीं जाती थीं शिक्षिकाएं