DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

रघुराज की खूनी दीवार में कई राज

प्लाट का मालिक कांग्रेसी नेता बचाने की जगह धमकाने में लगा रहा
रसूख का कमाल: अथॉरिटी रही चुप, प्रशासन का रवैया संदेहास्पद
जगह-जगह लगी मृतकों की सूची में असली प्लॉट मालिक का नाम नहीं

कांग्रेस के टिकट पर दादरी विधानसभा से दो बार किस्मत आजमा चुके रघुराज सिंह की जिस दीवार ने बच्चों-महिलाओं समेत 11 की जान ली, उसमें राज ही राज हैं। सोमवार रात हादसे के बाद घायलों को बचाने की जगह धमकाकर भगाने वाले इस कांग्रेसी नेता की रसूख का जलवा अथॉरिटी की चुप्पी और प्रशासन के संदेहास्पद रवैए से दिखता है। नोएडा के विशनपुरा (सेक्टर 58) में इतना बड़ा हादसा हुआ और अथॉरिटी ने सीधे पल्ला झाड़ लिया। दूसरी तरफ, जगह-जगह मृतकों की जो सूची लगाई जा रही थी उसमें प्लॉट मालिक के रूप में रघुराज सिंह का जिक्र तक नहीं था।


सोमवार रात तेज बारिश से दीवार ढहने के बाद जहां एक ओर चीखपुकार मच गई, वहीं प्लॉट मालिक रघुराज सिंह ने घायलों व राहत में जुटे आसपास के लोगों को शांति से रहने की हिदायत भी दी। दीवार गिरने की आवाज सुन पहुंचे आसपास के लोगों की मानें तो यदि ठीकठाक भीड़ नहीं जुटती और पुलिस नहीं पहुंचती तो वह लाशों को ठिकाने लगाने की कोशिश भी करता। कवरेज को पहुंचे मीडियाकर्मियों से भी वह इसी बात पर उलझ गया। जनप्रतिनिधि बनने के लिए चुनाव में दो बार किस्मत आजमा चुके इस शख्स ने राहत-बचाव कार्य में मदद करने वालों को भगा दिया और घटना के बारे में कुछ भी बताने पर परिणाम भुगतने की धमकी भी दी।


आसपास के लोगों ने अथॉरिटी पर भी उसे बचाने का आरोप लगाया। लोगों ने प्रावधानों को ताक पर रख किए गए निर्माण पर रोक नहीं लगाने की बात कही। मंगलवार को नोएडा के प्रोजेक्ट इंजीनियर श्योदान सिंह ने कहा कि ग्रामीण क्षेत्र के उस निर्माण से अथॉरिटी का कोई वास्ता नहीं है। अथॉरिटी के इस दो टूक के साथ ही अस्पताल व पुलिस-प्रशासन के पास मौजूद मृतकों की सूची में प्लॉट मालिक के तौर पर रघुराज सिंह का नाम नहीं लिखा होना और घटना के अगले दिन शाम तक एफआईआर नहीं दर्ज किया जना सवाल खड़ा कर रहा है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:रघुराज की खूनी दीवार में कई राज