अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

विशनपुरा में मातम, मलबे पर रहीं निगाहें

मृतक के परिजनों को एक लाख, घायलों को ढाई हजार मुआवज
पुलिस को रिपोर्ट दर्ज करने का निर्देश, बाद में मजेस्ट्र करेंगे जांच

हिन्दुस्तान टीम

विशनपुरा में दीवार गिरने की घटना के बाद मातमी सन्नाटा पसरा हुआ है। इस घटना के बाद देर रात तक मलबों से 11 लाशें निकाली गई। अंधेरे व बारिश के बीच कहीं और..की तरफ सबकी निगाहें थी। शुक्र है कि सूरज की किरणों निकलने के बाद एक भी लाश मलबे में नहीं मिली। इस घटना में अब तक 11 लोगों की मौत हो चुकी है और 9 लोग गंभीर रूप से घायल हैं। जिला प्रशासन ने इस घटना की जांच के आदेश दे दिए हैं। मृतक के परिजनों को एक-एक लाख व घायलों को ढाई हजार रुपए मुआवजे दिए गए हैं।


सोमवार रात लगभग साढ़े दस बजे उस समय यह जनलेवा हादसा हो गया जब झुग्गी के बगल में बनी दीवार ढह गई। कांग्रेसी नेता रघुराज सिंह व उनके भाइयों की जमीन पर बनी झुग्गियों में लगभग तीस से अधिक परिवार रहता है। बताया जाता है कि इस घटना के पीछे मिट्टी के टीले पर बनी ऊंची दीवार है। झुग्गियों में रहने वाले लोग यहां रहने  के लिए ढाई से लेकर पांच सौ रुपए तक किराया देते हैं। बारिश की पानी से मिट्टी भरभरा गया और कई की जनें लील गया। लगभग पांच घंटों तक चले राहत एवं बचाव कार्य के बाद भी सुबह तक मलबा हटाने का काम चलता रहा।


अंधेरे में चीख और पुकार के बीच दर्दनाक दृश्य हर किसी की आंखें नम कर दे रही थीं। विशनपुरा से लेकर जिला अस्पताल तक पूरी रात अफरातफरी मची रही। हर कोई अपने परिजन को ढूंढ रहा था। मंगलवार को जिला अस्पताल में सिटी मजिस्ट्रेट ने मृतक के आश्रितों को एक लाख रुपए के चेक सौंपे। घायलों के लिए ढाई हजर रुपए मुआवजे की घोघणा की गई, लेकिन कई घायलों के परिजनों ने इतनी कम रकम लेने से मना कर दिया। इधर प्रभारी डीएम ने बताया कि पुलिस को रिपोर्ट दर्ज करने का निर्देश दिया ज चुका है। पुलिस रिपोर्ट के बाद पूरे मामले की मजिस्ट्रियल जंच करायी जएगी। मजिस्ट्रियल जांच में एक माह का वक्त लग सकता है।

मृतकों के नाम (पुष्टि व आधिकारिक सूचना के अनुसार)- रानी  (20), महोबा, राजेश (35), हमीरपुर, गीता  (04), ममता (25), बल्ले (04), रामरती (30), दीपा (06), नंदकिशोर (27), अजय (1.5), दिलीप (20), सभी आठ छतरपुर, अरशद (24), कांशीराम नगर।


घायलों के नाम (पुष्टि व आधिकारिक सूचना के अनुसार)- राजू (30), महोबा, नेक्सीराम (04), अलीगढ़, संतोष (25), महामाया नगर, सुरेश (22), बिरजू (24), रूपा (35), कालकादीन (40), सभी छतरपुर, नक्शे अली (33) व शौकत (28) कांशीराम नगर।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:विशनपुरा में मातम, मलबे पर रहीं निगाहें