DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मांगों को लेकर छात्रों ने शुरू किया आमरण अनशन

गोपेश्वर महाविद्यालय को गढ़वाल विश्वविद्यालय का दर्जा तथा विधि महाविद्यालय को मान्यता दिलाने समेत अन्य मांगों को लेकर मंगलवार से छात्र नेताओं ने महाविद्यालय में अनिश्चितकालीन आमरण अनशन शुरू कर दिया है। आमरण अनशन से पहले छात्र नेताओं ने महाविद्यालय में तालाबंदी कर साक्षात्कार बंद कराया।

तयशुदा कार्यक्रम के अनुसार छात्र नेताओं ने महाविद्यालय खुलने के तुरंत बाद महाविद्यालय परिसर में जोरदार नारेबाजी कर चमोली गोपेश्वर मोटर मार्ग पर सांकेतिक जाम लगाया। बाद में महाविद्यालय में तालाबंदी कर वहां हो रहे छात्रों के साक्षात्कार को जबरन बंद कराया। छात्रों का आरोप था कि छात्रों के कई दौर के आंदोलनों के बावजूद विश्वविद्यालय प्रशासन उनकी समस्याओं को निपटाने में कोई दिलचस्पी नहीं दिखा रहा है।

महाविद्यालय की समस्याओं को लेकर विश्वविद्यालय प्रतिनिधि रविंद्र बिष्ट तथा छात्र नेता मनोज पुंडीर अनिश्चितकालीन आमरण अनशन पर बैठ गए हैं। उनके समर्थन में छात्र संघ अध्यक्ष पुष्पेंद्र, महामंत्री सुनील, कोषाध्यक्ष शैलेंद्र बिष्ट, पूर्व अध्यक्ष मनमोहन चतुरा, भरत गड़िया आदि छात्रों ने मंगलवार को पहले दिन धरना दिया।

इन छात्र नेताओं ने गोपेश्वर महाविद्यालय में पीजी बिल्डिंग के निर्माण, उत्तराखंड के एकमात्र गोपेश्वर महाविद्यालय में स्थित ला कालेज को मान्यता, प्राचार्य की स्थाई नियुक्ति, अन्य प्राफेशनल कोर्स शुरू करने, कर्मचारियों के ट्रांसफर रूकवाने तथा रिक्त पदों पर कर्मचारियों व प्रवक्ताओं की नियुक्ति, एमए में होम साइंस, डिफेंस, जियोलाजी तथा अन्य विषय चालू करने, प्रवेश की तिथि 30 जुलाई तक बढ़ाने की मांग की है।

आंदोलनकारी छात्र नेताओं ने कहा कि यदि 29 जुलाई तक उनकी मांगें पूर न हुई तो 30 जुलाई को सभी शिक्षण संस्थायें, सरकारी कार्यालय बंद किए जायेंगे। साथ ही राष्ट्रीय राजमार्ग पर चक्काजाम भी किया जाएगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:महाविद्यालय में तालाबंदी कर साक्षात्कार रूकवाया