अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

परिषद में गरमाया लोजपा कार्यकर्ताओं पर लाठीचार्ज का मुद्दा

 लोजपा कार्यकर्ताओं पर लाठी चार्ज के मुद्दे पर मंगलवार को विधान परिषद में विपक्षी सदस्यों ने जमकर हंगामा किया। शोर-शराबे के बीच सभापति के कहने पर भी जब सदस्य शांत नहीं हुए तो सदन की कार्यवाही करीब बीस मिनट पहले ही स्थगित कर देनी पड़ी। खासबात यह रही कि विपक्षी सदस्य इस मुद्दे पर विरोध जताने के लिए हाथों में काली पट्टी बांध कर सदन में आए थे।

शून्यकाल के दौरान राजद के गुलाम गौस ने यह मुद्दा उठाया। उन्होंने कार्यस्थगन प्रस्ताव भी दिया था जिसे सभापति प्रो.अरुण कुमार ने अस्वीकृत कर दिया। सदस्यों ने कहा कि लोजपा कार्यकर्ताओं पर सोमवार को लाठियां बरसायी गयीं। कांग्रेस की डॉ.ज्योति ने कहा कि सरकार इस पर जवाब दे।

इसी बीच उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी खड़े हो गए। उन्होंने कहा कि पुलिस पर पत्थर फेंके गए थे। साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि रामविलास जी को खरोंच तक नहीं आयी है। उनके इस जवाब से विपक्षी सदस्य भड़क गए। उन्होंने कहा कि रामविलास जी को खरोंच तक नहीं आयी यह कहकर सरकार क्या बताना चाहती है? क्या सरकार गोली चलवाना चाहती थी?

राजद, कांग्रेस और वामपंथी दलों के सदस्यों ने इस मसले पर एक साथ खड़े होकर बोलना शुरू कर दिया। दूसरी ओर सत्ता पक्ष के सदस्य भी सरकार के समर्थन में खड़े हो गए। सदन में जबरदस्त शोर-शराबे के बीच सभापति ने सदन की कार्यवाही स्थगित करने की घोषणा कर दी।

इसके पहले सदन की कार्यवाही शुरू होने से पहले परिषद के गेट पर राजद के सदस्यों ने इसी मुद्दे पर जमकर नारेबाजी की। सदस्य ‘लाठी-गोली की सरकार नहीं चलेगी, राजनीतिक कार्यकर्ताओं का दमन बंद करो और नीतीश सरकार इस्तीफा दो के नारे लगा रहे थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:परिषद में गरमाया लोजपा कार्यकर्ताओं पर लाठीचार्ज का मुद्दा