DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

होम लोन

अगर आप होम लोन लेने के बारे में सोच रहे हैं, तो इससे जुड़ी़ कुछ जरूरी बातों को ध्यान में रख लें।

जहां तक ईएमआई की बात है, तो यह मुख्यत: इस बात पर निर्भर करती है कि आपने कितना लोन लिया है, लोन कितने समय के लिया गया है, लोन की ब्याज दर कितनी है आदि। आप लोन अदा करने के लिए जितना समय लेंगे, आपकी ईएमआई उतनी ही कम होगी। लोन अदा करने का समय जितना ज्यादा होगा, ईएमआई उतनी ही ज्यादा होगी।

जितनी ज्यादा अवधि के लिए आप लोन लेंगे, आपको ब्याज दर उतनी ज्यादा अदा करनी होगी। वहीं आप लोन अदा करने के लिए जितना कम समय लेंगे, ईएमआई उतनी कम होगी, क्योंकि इससे बैंक का रिस्क काफी कम हो जाता है।

आप ज्यादा अवधि के लिए लोन लें या कम अवधि के लिए, यह फैसला आपकी वित्तीय स्थिति पर निर्भर करता है। ऐसे में बेहद जरूरी है कि आप अपनी वर्तमान आय और भविष्य की स्थिति के आधार पर इसका आकलन कर लें। ईएमआई का निर्धारण करवाते समय इस बात का ध्यान जरूर रखें कि आपकी जीवनशली और रोजमर्रा की जिंदगी में किसी तरह की परेशानी न आएं।

इसके अलावा लोन लेने में उम्र का फैक्टर भी काफी महत्वपूर्ण होता है, क्योंकि आप जितनी जल्दी लोन लेंगे, आपकी ईएमआई उतनी ही कम होगी। हालांकि आपको इसके लिए ब्याज ज्यादा देना पड़ सकता है, लेकिन शुरुआती समय में आपके लिए इसे अदा करना ज्यादा मुश्किल नहीं होता।

टैक्स सेविंग के मामले में भी होम लोन एक बढ़िया विकल्प है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:होम लोन