अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

परमाणु पनडुब्बी हमारी ताकत का नया उद्घोष: पीएम

परमाणु पनडुब्बी हमारी ताकत का नया उद्घोष: पीएम

प्रधानमंत्री डा. मनमोहन सिंह ने देश में निर्मित पहली परमाणु पनडुब्बी आईएनएस अरिहंत को रविवार को विशाखापट्टनम में समुद्र में उतारने के साथ कहा कि यह पनडुब्बी भारत की सैन्य ताकत का नया उद्घोष है।

पोरखरण में परमाणु परीक्षण के बाद भारत की यह दूसरी सबसे बड़ी परियोजना है। इसके साथ ही भारत उन पांच देशों की कतार में शामिल हो गया है जो समुद्र के अंदर से परमाणु हथियार दागने की क्षमता रखते हैं।

मनमोहन ने इस अवसर पर कहा कि यह परमाणु पनडुब्बी हमारे वैज्ञानिकों और रक्षाकर्मियों की देशभक्ति का नमूना है जिन्होंने कई बाधाओं को पार करके देश को इस उन्नत रक्षा तकनीक के मामले में आत्मनिर्भर बनाया है।

परमाणु पनडुब्बी के विकास को अहम उपलब्धि बताते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि सरकार देश की रक्षा के लिए जरूरी सभी उपाय करेगी और विश्व में तकनीक के विकास की गति से कदम से कदम मिलाकर चलेगी।

रक्षा मंत्री एके एंटनी ने परमाणु पनडुब्बी के जलावतरण को ऐतिहासिक और गौरवशाली क्षण करार दिया जबकि नौसेना प्रमुख एडमिरल सुरीश मेहता ने कहा कि अब भारत को जवाबी परमाणु प्रतिरोध करने का प्लेटफार्म मिल गया है।

इस बीच नौसेना की परम्परा के अनुसार प्रधानमंत्री की पत्नी गुरशरण कौर ने इस अवसर पर नारियल फोडा और इस पनडुब्बी का नाम आईएनएस अरिहंत रखने की घोषणा करने की रस्म पूरे जोशो खरोश के साथ पूरी की। इसके साथ ही छह हजार टन वजनी और 110 मीटर लंबी यह पनडुब्बी धीरे धीरे समुद्र की ओर रवाना हो गई जहां इसके समुद्री परीक्षण पूरे किए जाएंगे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:परमाणु पनडुब्बी हमारी ताकत का नया उद्घोष: पीएम