अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नाबालिग नौकरानी को यातनाएं दे रही साहिबाबाद पुलिस

डीएलएफ कॉलोनी में पिछले दिनों हुई डकैती को खोल पाने में साहिबाबाद पुलिस भले सफल न हो पायी हो, लेकिन अपनी नाकामी छिपाने के लिए मासूम बच्ची को यातनाएं देने लगी है। वारदात के बाद अभी तक पुलिस बदमाशों के स्कैच तक जरी न कर पाने वाली पुलिस ने नाबालिग नौकरानी को घर में बंधक बने रहने को मजबूर कर दिया है। नौकरानी के परिजनों का आरोप है कि वारदात के बाद से उन्हें अपनी ही बेटी से नहीं मिलने दिया जा रहा और रोजना रात को स्थानीय पुलिस चौकी ले जाकर पूछताछ के नाम पर यातनाएं दी जा रही हैं। इस बाबत उन्होंने एसएसपी से न्याय की गुहार लगायी है।


रक्षा मंत्रालय में सीनियर ऑडिटर के पद पर कार्यरत अशोक वाष्ण्रेय के डीएलएफ कॉलोनी स्थित निवास पर एक सप्ताह पूर्व डकैती पड़ी थी। आधा दर्जन से ज्यादा हथियारबंद बदमाश दिनदहाड़े घर में मौजूद अशोक की पुत्री शिल्पा व घरेलू नौकरानी ज्योति को गन प्वाइंट पर लेकर दो लाख रुपए की नकदी व करीब तीन लाख रुपए कीमत की ज्वेलरी ले उड़े थे। घटना के बाद मौके पर पंहुचे पुलिस के आला अधिकारियों ने वारदात में शामिल बदमाशों के स्केच जरी कराने व जल्द ही मामले के खुलासे का दावा किया था।


हांलाकि एक सप्ताह बीत जने पर भी पुलिस के हाथ कोई ठोस सुराग नहीं लगा। वहीं ज्योति के परिजनों का आरोप है कि उसे वारदात के बाद से ही घर में बंधक बना लिया गया है। ज्योति की मां सुनीता का कहना है कि अशोक के परिवार वाले और पुलिस उन्हें अपनी ही बेटी से नहीं मिलने दे रहे। यही नहीं पूछताछ के नाम पर उसे मानसिक व शारीरिक रूप से प्रताड़ित किया ज रहा है। इस बाबत उन्होंने एसएसपी अखिल कुमार को ज्ञापन देकर न्‍याय की गुहार लगायी है। वहीं जब सीओ बॉर्डर हैप्पी गुप्तन से बात की गयी तो उन्होंने इस बारे में बात करने से ही मना कर दि

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:नाबालिग नौकरानी को यातनाएं दे रही साहिबाबाद पुलिस