अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मुख्यमंत्री की मौजूदगी में चले आरोपों के तीर

मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा एवं कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष कुलदीप शर्मा की मौजूदगी में तिगांव की जनसभा में कांग्रेसियों के बीच आरोपों के तीर चले। एक ने मंच से सांसद अवतार भड़ाना पर विकास कार्य नहीं कराने के ताबड़ तोड़ कई इल्जाम लगाए। सभा के दौरान कई ने तिगांव विधानसभा क्षेत्र से टिकट की दावेदारी के लिए मुख्यमंत्री को अपने तरीके से प्रभावित करने की कोशिश की।


एक बिल्डर के पिता रूप सिंह नागर ने शनिवार को तिगांव में मुख्यमंत्री की धन्यवादी जनसभा आयोजित की थी। इसका मकसद टिकट के लिए दावेदारी पेश करना था। इसकी खातिर शक्ति प्रदर्शन का पूरा इंतजाम किया गया। लेकिन पासा तब उल्ट गया। जब मंच से उनसे कहीं ज्यादा इलाके के दूसरे कांग्रेसियों ने टिकट की खातिर हुड्डा को प्रभावित करने की कोशिश की। दो नेताओं ने भीड़ में काफी संख्या में अपने आदमी बिठा रखे थे। नेता जी जब भी कुछ कहते भीड़ से नारेबाजी एवं ताली का तेज शोर उठने लगता। ललित नागर ने तो हद कर दी। रौ में बहकर यहां तक कह दिया कि हुड्डा अगली बार लालकिला से तिरंगा फहराएंगे। एक ने जहां लोकसभा चुनाव में अवतार भड़ाने को जीत दिलाने में अहम रोल निभाने की दुहाई दी। वहीं दूसरे ने भीड़ से हाथ उठवाकर अपने लिए समर्थन मांगा। इसी बीच एडवोकेट जगत नागर ने अचानक माइक पकड़ यह कहकर सब को चौंका दिया कि सांसद भड़ाना उन्हें बोलने से रोक रहे हैं। बोलने वालों की सूची से उनका नाम कटवा दिया। उन्होंने सांसद पर  इलाके में विकास कार्य नहीं कराने के कई गंभीर आरोप लगाए। इस पर सांसद को सफाई देनी पड़ी। उन्होंने कराए गए विकास गिनाए। इनके बाद जब मुख्यमंत्री बोलने आए तो उन्होंने यह कहकर मामले को रफा-दफा करना चाहा कि..परिवार में यह सब चलता रहता है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मुख्यमंत्री की मौजूदगी में चले आरोपों के तीर