अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

राजकीय वाहन चालक महासंघ ने दिखायी गांधीगिरी

राजकीय वाहन चालक महासंघ ने गांधीजी की टोपी पहनकर जिलाधिकारी कार्यालय के बाहर एक दिवसीय धरना दिया। वाहन चालक महासंघ ने जिलाधिकारी कार्यालय पर लिखित पत्रों का संज्ञान न लिया जाने का आरोप लगाया।

राजकीय वाहन चालक महासंघ के अध्यक्ष कमल ¨सह रावत ने कहा कि महासंघ लंबे समय से मांग कर रहा है कि राजस्व विभाग में शासन द्वारा जारी वर्ष 2006 के शासनादेश का अनुपालन 2009 तक भी न होने पर अफसोस व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि लोकसभा चुनाव 09 के लोकसभा चुनाव के सापेक्ष निर्वाचन आयोग द्वारा अन्य कर्मचारियों को दैनिक भत्ता तो बढ़ा दिया है लेकिन उनको अभी तक चुनाव का पैसा नहीं मिला।


वाहन चालक संघ के महासचिव संदीप कुमार मौर्य ने कहा कि उन्होंने गांधीजी की टोपी पहनकर धरना दिया क्योंकि अभी वह शांतिपूर्ण तरीके से अपनी मांगों को लेकर विरोध धरना दे रहे हैं। उन्होंने कहा कि जब अमेरिका जैसा देश गांधी जी का सम्मान कर सकता है तो भारतीय क्यों नहीं। उन्होंने कहा कि उनकी मांग है कि जितने वाहन है उतने की वाहन चालकों के पद सृजित किए जाए। उन्होंने कहा कि कई राजकीय विभागों, निगमों,  उपक्रमों, बोडरे निकायों का बीमा समय पर नहीं कराया जा रहा है।


धरने में राजस्व विभाग के चमनलाल चौरसिया, उद्योग के राजीव बसेरा, अनुसूचित जाति कल्याण के मनोहर ¨सह जीना, राजस्व के रघुवीर सिंह सहित स्वास्थ्य, नगर निगम, वन विभाग, जलागम, जल निगम, जल संस्थान, पशु पालन आदि विभाग के सैकड़ों कर्मचारी मौजूद थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:राजकीय वाहन चालक महासंघ ने दिखायी गांधीगिरी