DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

औरंगाबाद जिले की तीन प्रमुख सड़कें नक्सल योजना में शामिल

बिहार के उग्रवाद प्रभावित औरंगाबाद जिले की तीन प्रमुख सड़कों को नक्सल योजना में शामिल कर लिया जाएगा और पथ निर्माण विभाग ने इन रास्तों को नक्सल योजना में शामिल करने पर सैद्धांतिकद्धांतिक रुप से सहमति प्रदान कर दी है।

पथ निर्माण विभाग के कार्यपालक अभियंता इम्तेयाज अहमद ने बताया कि जिले के देव-अम्बा,औरंगाबाद,रफीगंज भाया सिन्हा कॉलेज, पोइवां तथा हसपुरा,मेंहदिया पथ को नक्सल योजना में शामिल किया जाएगा। उन्होंने बताया कि यह तीनों सड़कें पूरी तरह से नक्सल प्रभावित क्षेत्र में हैं और इन सड़कों के निर्माण से संबंधित विस्तृत परियोजना रिपोर्ट (डीपीआर) तैयार कर मंजूरी के लिए विभाग को भेज दी गई है।

अहमद ने बताया कि डीपीआर के अनुसार 17 किलोमीटर लंबी देव-अम्बा पथ के निर्माण पर 13 करोड़, 7.4 किलोमीटर लम्बी रफीगंज-औरंगाबाद पथ के निर्माण पर 12 करोड़, और 6.4 किलोमीटर लंबी हसपुर-मेंहदिया के बीच सड़क के निर्माण पर कुल आठ करोड़ रुपए खर्च होंगे। उन्होंने बताया कि डीपीआर को मंजूरी मिल जाने के बाद इन सड़कों का निर्माण कार्य शुरु कर दिया जाएगा। उन्होंने बताया कि इन सड़कों को साढ़े पांच मीटर चौड़ा करने का प्रस्ताव है।

कार्यपालक अभियंता ने बताया कि जिले के ऐतिहासिक ,पौराणिक एवं धार्मिक स्थल देव में रिंग रोड का निर्माण कराया जाएगा। उन्होंने बताया कि पौराणिक स्थल देव में रिंग रोड़ का निर्माण हो जाने से यहां आने वाले देशी विदेशी पर्यटकों को काफी सुविधा होगी। साथ ही वर्ष में दो बार छठ मेले के दौरान लाखों श्रद्धालुओं की भीड़ को नियंत्रित रखने में मदद मिलेगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:औरंगाबाद जिले की तीन प्रमुख सड़कें नक्सल योजना में शामिल