DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आईटीआर फॉर्म

आईटीआर-1  यह फॉर्म उन इंडीविजुअल लोगों के लिए हैं जिनकी सेलेरी, पेंशन, फैमिली पेंशन और ब्याज के द्वारा आय होती है।

आईटीआर-2 ये उन इंडीविजुअल और एचयूएफ के लिए है जिनकी आय सेलेरी, पेंशन, फैमिली पेंशन, ब्याज, हाऊस प्रॉपर्टी और कैपिटल गेन से होती है। पांच पन्ने वाले इस आईटीआर फॉर्म को खासतौर से उन लोगों द्वारा भरा जाना है जिनकी आय सेविंग बैंक अकाउंट, फिक्स्ड डिपॉजिट, नेशनल सेविंग सíटफिकेट(एनएससी) और ब्याज देने वाले अन्य माध्यमों से है।

आईटीआर- 3  ये उन इंडीविजुअल और एचयूएफ के लिए हैं, जो किसी फर्म में पार्टनर हैं, लेकिन किसी प्रॉपराइटरशिप में वह अपना बिजनेस और प्रोफेशन नहीं करते।

आईटीआर-4  ये उन इंडीविजुअल और एचयूएफ के लिए है, जिनकी आय प्रॉपराइटरी बिजनेस या किसी प्रोफेशन से होती है।

आईटीआर-5  इस फॉर्म का इस्तेमाल एओपी (एसोसिएशन ऑफ पर्सन मसलन समितियां), बीओआई(बॉडी ऑफ इंडीविजुअल जैसे कि क्लब) और लोकल अथॉरिटी के लिए होता है।

आईटीआर-6  यह  फॉर्म मुख्यतःकारपोरेट निर्धात्री और कंपनियों (प्राइवेट और पब्लिक)के लिए है।

आईटीआर-7  यह फॉर्म चैरिटेबल ट्रस्ट और राजनीतिक संस्थाओं के लिए होता है। 

आईटीआर- वी यह वेरीफिकेशन फॉर्म होता है, जिसे ऑनलाइन रिटर्न बिना डिजिटल हस्ताक्षर के जमा करने पर आयकर विभाग में जमा करना पड़ता है।

(पाठकों की मांग पर)

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:आईटीआर फॉर्म