अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

किसानों को मिलेगी डीजल सब्सिडी

किसानों को मिलेगी डीजल सब्सिडी

देश में मानसून की हालत खराब होने के चलते सरकार किसानों को राहत प्रदान करने के लिए आकस्मिक योजना को अंतिम रूप दे रही है। इसका एलान आज राज्य सभा में ध्यानाकर्षण प्रस्ताव पर हुई चर्चा का जवाब पेश करते हुये कृषि मंत्री शरद पवार ने किया। उन्होंने कहा कि किसानों को डीजल पर केंद्र व राज्यों की ओर से सब्सिडी देने का फैसला जल्द होगा। साथ ही सूखे के चलते किसानों को लोन भुगतान में भी सरकार मदद करेगी।

उन्होंने कहा कि डीजल सब्सिडी बिहार सरकार की ओर से शुरू की गई स्कीम की तर्ज पर होगी। इसे सभी राज्यों में लागू करने का प्रयास किया जाएगा। प्रति लीटर डीजल सब्सिडी की राशि राज्य तय करेंगे। इनमें आधा वित्तीय बोझ खुद केंद्र सरकार वहन करेगी। उन्होंने कहा कि मानसून की गड़बड़ी के चलते फसलों पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ा है और किसानों की आय प्रभावित हुई है।

इस बात का ध्यान रखते हुये सरकार उनके बैंक लोन के भुगतान में उन्हें विशेष सहूलियत देगी। इसमें मासिक किस्तों में छूट और दूसरी ओर ब्याज सब्सिडी जैसे उपायों पर विचार किया जा रहा है। सरकार के पास आगामी 13 महीनों के लिए पर्याप्त खाद्यान्न स्टॉक मौजूद है। इसके बावजूद एहतियात के तौर पर सरकार गैर-बासमती चावल और गेहूं के निर्यात पर पाबंदी लगाने जा रही है। उन्होंने कहा कि धान और कुछ अन्य फसलों की सूखा रोधी प्रजतियां विकसित करने की दिशा में कदम उठाया जाएगा। अभी इनके निर्यात की विशेष परिस्थितियों में अनुमति है।

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री कार्यालय खुद मानसून की हालत की दिन प्रति दिन मानीटरिंग कर रहा है और किसानों की सहायता का जायजा ले रहा है। किसी भी राज्य के साथ दलगत राजनीति के आधार पर कोई भेदभाव नहीं किया जाएगा। लेकिन प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के साथ हुई बैठक में यह बात सामने आई है कि पहले के मुकाबले कई राज्यों में स्थिति में सुधार आया है। लेकिन उत्तर प्रदेश, बिहार, उत्तर पूर्वी और उत्तर पश्चिमी राज्यों की हालत जस की तस बनी हुई है। सदस्यों की ओर से सूखे की घोषणा की मांग पर उन्होंने कहा कि यह काम राज्य सरकारों का है। अभी तक सिर्फ असम और मणिपुर ने ही सूखा घोषित किया है। बिहार को डीजल सब्सिडी देने पर विचार किया जा रहा है, वहीं पंजाब और हरियाणा को अतिरिक्त बिजली सप्लाई सुनिश्चित की जाएगी।

उत्तर प्रदेश की हालत पर चिंता जताते हुये उन्होंने कहा कि वहां संपर्क करने का प्रयास किया गया है लेकिन वहां पर कोई भी जिम्मेदार है। नतीजतन, हालत की सही जानकारी नही हो सकी है। अब उत्तर प्रदेश सरकार को पत्र लिखकर रिपोर्ट मांगी जाएगी। मौसम विभाग की रिपोर्ट के मुताबिक अभी तक देश में बारिश 19 फीसदी कम है। उन्होंने कहा कि सभी राज्यों में खरीफ की बुवाई जारी है। इसमें चावल और बाजरा के अलावा सभी फसलों का रकबा अभी तक सामान्य बना हुआ है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:किसानों को मिलेगी डीजल सब्सिडी