अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

उत्तेजित महिला विधायकों ने किया विधानसभा परिसर में प्रदर्शन

प्रशासन पर महिलाओं को शोषण करने का लगाया आरोप
दोषी लड़के को फांसी व पुलिस को निलंबित करने की मांग की

पटना में युवती के साथ हुए दुर्व्यवहार के मुद्दे पर उत्तेजित विपक्षी दलों की महिला विधायकों ने विधानसभा परिसर में जोरदार प्रदर्शन किया। विधानसभा के मुख्य गेट से लेकर विधान परिषद परिसर तक नारेबाजी की। नीतीश सरकार पर जमकर निशाना साधा। प्रशासन पर महिलाओं को शोषण करने का आरोप लगाया। राजधानी के भीड़-भाड़ वाले एक्जीबिशन रोड पर युवती के साथ हुए दुर्व्यवहार को द्रोपदी चीरहरण की संज्ञा दी। वे इतनी उत्तेजित थीं कि दलीय सीमाओं को तोड़ सातों विपक्षी महिला विधायक एकजुट होकर नीतीश सरकार को होश में आने की चेतावनी तक दे डाली। उन्होंने दोषी लड़के को फांसी देने और जिम्मेवार पुलिसकर्मियों को निलंबित करने की मांग की। इस मामले पर महिला विधायकों ने कहा -

राजद विधायक प्रेमा चौधरी नीतीश सरकार गूंगी है। एक तो चलती सड़क पर युवती की इज्जत बचा नहीं पाती और विधानसभा में विपक्ष जब दोषी पर कार्रवाई की बाबत सरकार का पक्ष जानने का प्रयास करता है तो जवाब देने की हिम्मत नहीं जुटा पाती। नीतीश सरकार का यह रवैया महिला, दलित और गरीब विरोधी है।

राजद विधायक कुंती देवी नीतीश सरकार संवेदनहीन हो गई है। राज्य जलता रहे पर उसे अपनी उपलब्धि गिनाने से फुर्सत नहीं। विधानसभा में विपक्ष ज्वलंत मुद्दे पर सरकार से जवाब देने की मांग करता रहा पर आगे की पंक्ति में बैठ मंत्री ठहाका लगाते रहे। सरकार का यह रवैया शर्मनाक है।

राजद विधायक बीमा भारती पूरे देश में सुशासन का ढोल पिटवाने वाली राज्य सरकार को इस घटना के बाद बर्खास्त कर देना चाहिए। संवेदनशील मीडिया ने इस मामले को नहीं उठाया होता तो और मामले की तरह यह भी दब जाता। गांवों में रोज महिलाओं के साथ दुर्व्यवहार की घटनाएं सामने आतीं है पर प्रशासन कुछ नहीं करता।

कांग्रेस विधायक सुनीला देवी क्या यही महिला सशक्तीकरण है? महिलाओं को 50 फीसदी आरक्षण देने वाली नीतीश सरकार महिलाओं की इज्जत की रक्षा कर पाने में असफल हो गई है। दिनदहाड़े राजधानी की सड़क पर युवती का चीरहरण किया गया और पुलिस प्रशासन सोती रही। यह बर्दाश्त के बाहर है। नीतीश सरकार अब रहने लायक नहीं है।

कांग्रेस विधायक सुनीता देवी सड़क पर महिला की इज्जत उतरवाने वाली सरकार को शासन करने का कोई हक नहीं है। सड़क पर युवती को नंगा किया जाता रहा और चंद दूरी पर बैठे सरकार के आला अधिकारी सोये रहे। टीवी पर इस कुकृत्य को देख कहां- कहां से लोग वहां पहुंच गये पर बहरी और गूंगी सरकार कान में तेल डाल सोयी रही।

लोजपा विधायक नगीना देवी नीतीश सरकार की पुलिस ही महिलाओं का शोषण करती है। सीतामढ़ी जिला में ऐसे कई उदाहरण है जिससे साबित होता है कि प्रशासन बेलगाम हो गया है। इस शर्मनाक घटना के बाद नीतीश सरकार को बर्खास्त कर देना चाहिए। दोषी को फांसी होनी चाहिए।

बसपा विधायक सीतासुंदरी देवी  महिलाओं को 50 फीसदी आरक्षण देने वाली सरकार महिला उत्पीड़न के मामलों पर सिर्फ खानापूर्ति करती है। पटना की घटना पुलिस प्रशासन के नकारापन की पराकाष्ठा है। दोषी लड़के और पुलिसकर्मियों को सख्त सजा मिलनी चाहिए। नीतीश प्रशासन अब किसी की परवाह नहीं करता।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:उत्तेजित महिला विधायकों ने किया विधानसभा परिसर में प्रदर्शन