DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कुपवाड़ा में 17 आतंकी ढेर, बाकी पहुंचे सीमा पार

पांच दिन से जारी ऑपरशन, 17 आतंकियों का खात्मा, 8 जवानों की शहादत और इस सब के बीच उभरी आतंकवाद को लेकर कश्मीर की जनता का एक अलग चेहरा दिखाती तस्वीर। कश्मीर लाइट इन्फैंट्री का जवान शब्बीर अहमद मलिक आतंकियों से लोहा लेते हुए शहीद हुआ। जवानों ने शब्बीर को आखिरी सलामी दी और ठीक उसी वक्त अल्लाह-ओ-अकबर के नारों के साथ एक नया नारा पूर माहौल में गूंजने लगा, ‘ आजाद हिन्दुस्तान जिन्दाबाद।’ शब्बीर अहमद मलिक के जनाजे में उमड़ी भीड़ और लोगों की आंखों में उमड़ते आंसुओं में आतंकवाद से आजिज आई जनता के आक्रोश की एक नई इबारत लिखी थी। इस शहीद के घर से गांव के कब्रिस्तान तक आधा किलोमीटर के रास्ते में मातम में डूबे हजारों लोग जुटे । युवकों में शब्बीर के ताबूत को कंधा देने की होड़ और बेतरह बिलखती महिलाएं दिखीं। शब्बीर के मामा मो. यूसुफ भीगी आंखों से बोले, ‘ हम इसे जन्मदिन की बधाई देने वाले थे, क्या पता था इसके जनाजे में कंधा देना होगा।’ परिवार उसे डॉक्टर बनाना चाहता था। लेकिन शब्बीर के मन में कुछ और ही था। शब्बीर के बड़े भाई गुलाम मोहम्मद ने बताया, ‘इसका इरादा पक्का था। दसवीं के इम्तिहान देने के बाद ही यह सेना में भर्ती होने के लिए घर से भाग गया था।’ शब्बीर के दोस्त 22वर्षीय मो. यासीन रुंधे गले से बोले, इसके लिए मुल्क सबसे पहले था और हिन्दुस्तान के खिलाफ कोई बात शब्बीर को बर्दाश्त नहीं थी। सेना ने बताया कि कश्मीर के कुपवाड़ा में मारे गए 17 आतंकवादी लश्करे तैयबा संगठन से थे। उनके पास से बरामद हथियार और अत्याधुनिक उपकरण साबित करते हैं कि उन्होंने पाकिस्तानी सुरक्षा बलों की मदद से भारतीय सीमा में घुसपैठ की। सेना की 15वीं कोर के प्रवक्ता ब्रिगेडियर गुरमीत सिंह ने बुधवार को एक प्रेस कांफ्रेंस में यहां बताया, ‘पांच दिन तक चले ऑपरेशन में मारे गए आतंकवादियों का संबंध पाकिस्तान स्थिति लश्करे तैयबा से था। पूरी तरह प्रशिक्षित इन आतंकियों के पास से बरामद नक्शे, दिशानिर्देशक प्रणालियां और अत्याधुनिक उपकरण बताते हैं कि सीमा पार कराने में उन्हें पाक सुरक्षा एजेंसियों की भरपूर मदद मिली।’ सेना को मारे गए आतंकियों के पास से भारी गोला बारूद मिला है। ब्रिगेडियर सिंह के मुताबिक सेना का कांबिंग ऑपरेशन अब भी जारी है, हालांकि मंगलवार शाम के बाद फायरिंग बंद हो चुकी है। उन्होंने लश्कर के उस दावे का खंडन किया, जिसमें कहा गया था कि आतंकियों ने 25 सैनिकों को मार गिराया। सेना के मुताबिक ऑपरेशन में शब्बीर अहमद मलिक और मेजर मोहित शर्मा सहित कुल आठ जवान शहीद हुए। दूसरी ओर, लश्करे तैयबा ने कुपवाड़ा हमले की जिम्मेदारी लेते हुए धमकी दी है कि आने वाले दिनों में वह भारतीय सेना पर और हमले जारी रखेगा। लश्कर के प्रवक्ता अब्दुल्ला गजनवी ने श्रीनगर के एक स्थानीय अखबार को टेलीफोन पर यह बात कही।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: कुपवाड़ा में 17 आतंकी ढेर, बाकी पहुंचे सीमा पार