अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

प्रदेश सरकार ने शुरू किया आलू का स्टोरेज

आलू की कालाबाजरी की आशंका के चलते उत्तर प्रदेश सरकार ने स्टोरेज में रखे आलू के आंक़ड़े जुटाने शुरू कर दिये हैं। प्रदेश से बाहर पड़ोसी राज्यों में की जा रही आलू की बिक्री पर मिल रही छूट को भी खत्म कर दिया गया है। प्रदेश में पहली बार आलू की कीमतें आसमान छू रही हैं। दो माह बाद आलू की बुवाई शुरू होने वाली है, इस दौरान कहीं बीज की कमी न पड़ जाये, इस चक्कर में एहतियातन कदम उठाये जा रहे हैं।


दरअसल यह हालात बरसात में देरी के चलते पैदा हुए हैं। बरसाती मौसम में इस्तेमाल की जने वाली लौकी, तोरी, भिंडी और करेला जैसी सब्जियों की पैदावार बहुत कम हुई है, लिहाज अभी भी बड़े पैमाने पर सब्जी में आले का इस्तेमाल किया जा रहा है। हालात इस कदर हो गये हैं कि जुलाई माह में आलू की जो किस्में पांच से सात रुपए किलो बिकती थीं वे अब सत्रह से पच्चीस रुपए प्रति किलो बेची जा रही हैं।


प्रदेश में आलू की बड़ी पैदावार फरूखाबाद, आगरा, मथुरा, हाथरस, हापुड़, अलीगढ़, बुलन्दशहर और एटा मैनपुरी इलाकों में होती हैं। इहीं शहरों के नजदीक कोल्ड स्टोरेज हैं, जहां आलू को सुरक्षित रखा जाता है। स्टोरेज से निकालने के करीब अड़तालिस घंटे बाद आलू खराब होने लगता है इस चक्कर में बड़े व्यापारियों ने स्टोर में ही आलू का स्टाक करना शुरू कर दिया है। प्रदेश सरकार इससे विचलित हो रही है। प्रदेश मे कहीं आलू की कालाबाजरी शुरू न हो जाये इसके लिए एहतियातन कदम उठाने शुरू कर दिये गये हैं। दादरी मंडी समिति के सचिव अनिल त्यागी के मुताबिक स्टोरेज में उपलब्ध आलू के आंकड़े जुटाने की बाबत शासन से दिशा निर्देश मिले हैं। आलू के बड़े व्यापारियों के मुताबिक अक्टूबर में करीब बीस प्रतिशत आलू बीज के लिए स्तेमाल होता है और इसी दौरान दीपावली जसे त्यौहारों का आगमन शुरू हो जाता है। जितना आलू दस माह में इस्तेमाल होता है उतना अकेले अक्टूबर और नवम्बर माह में इस्तेमाल हो जाता है।


सरकार की चिंता वाजिब भी है कि जब जुलाई में आलू की कीमतें उछाल मार रहीं हैं तो नवम्बर में तो कीमतें काबू करना ही मुश्किल हो जयेंगी। कहीं आलू का हाल भी अरहर की दाल की तरह न हो जये इस आशंका से सरकार चेती है। इस सम्बंध में पूछे जने पर उत्तर प्रदेश मंडी समिति के डिप्टी डायरेक्टर विपणन एम के एस सचान ने बताया पड़ोसी राज्यों को भेज ज रहे आलू पर रोक लोकल स्पलाई को ठीक करने के चलते लगाई गयी है। उन्होने बताया कि आलू की कीमतें लगातार बढती ज रही है। स्टोरेज में रखे आलू को बाहर नहीं लाया गया तो हालात और बिगड़ सकते हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:प्रदेश सरकार ने शुरू किया आलू का स्टोरेज