DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

माओवादियों के द्वार तक पहुंची स्वास्थ्य सेवा

बिहार में मुंगेर जिले के नक्सल प्रभावित धरहरा प्रखंड के आदिवासी गांवों में आदिवासियों के द्वार पर स्वास्थ्य सेवा पहुंचाकर माओवादियों को समाज की मुख्यधारा में लाने का अनूठा प्रयास जिला प्रशासन ने शुरू कर दिया है।
 माओवादियों के गढ़ धरहरा में आदिवासियों के दरवाजे पर चलंत मेडिकल वान लगाकर चिकित्सक और स्वास्थ्यकर्मियों ने विगत तीन दिनों में लगभग साढ़े चार सौ आदिवासियों के स्वास्थ्य का परीक्षण किया है और उन्हें निशुल्क दवाईयां दी है।


 मुंगेर के सिविल सर्जन डा. श्रीकृष्ण चन्द्र सिंह ने शुक्रवार को बताया कि धरहरा के आदिवासी गांवों में चलंत मेडिकल यूनिट के पहुंचने पर स्वास्थ्य परीक्षण के लिए आदिवासियों की कतार लग जा रही है। यूनिट में एक्सरे मशीन छोटी-मोटी शल्य चिकित्सा के लिए आपरेशन थिएटर. पैथोलोजी की जांच और एम्बुलेंस की व्यवस्था है। यूनिट में एक चिकित्सक और नौ पैरा मेडिकल स्टाफ है। सुदूर गांवों में मरीज की स्थिति गंभीर होने पर एम्बुलेंस से मुंगेर सदर अस्पताल भेजने की भी व्यवस्था है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:माओवादियों के द्वार तक पहुंची स्वास्थ्य सेवा