DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आओ घर में ही झूलें झूला

आओ घर में ही झूलें झूला

एक समय था जब रस्सी के झूलों पर लकड़ी के फट्टों का झूला बनाया जाता था, पर आज झूलों का रंग-रूप पूरी तरह बदल गया है। आरामदायक कुशन से लेकर आकर्षक साज-सज्जा वाले झूले अब घरों की खूबसूरती में चार चांद लगा रहे हैं।

तीज की मौज
 राजधानी दिल्ली की फिजा इन दिनों तीज उत्सवों से गुलजार है। हालांकि पहले जहां तीज पर रिमझिम सावन से संबंधित लोकगीत गाए जाते थे, इस बार रूठे सावन को मनाने की महक तीज मेलों में उठ रही है। शुरू से गांवों में तीज-त्योहारों के अवसर पर बाग-बगीचों में झूले डाले जाते थे, जिन पर इकट्ठी होकर महिलाएं लोकगीत गाते हुए झूला करती थीं। आज भी गांवों में सावन के महीने में महिलाएं झूले झूलती देखी जा सकती हैं, पर शहरों  में झूले अपना नया रूप ग्रहण कर रहे हैं और बाग-बगीचों से घरों के इंटीरियर का हिस्सा बन रहे हैं।

झूले और होम इंटीरियर
तीज-त्योहारों पर दिखाई देने वाले झूले अब होम इंटीरियर का एक अहम हिस्सा बन रहे हैं। स्कूल अध्यापिका श्रीमती आशा जोशी का कहना है कि दिल्ली जैसे महानगर में पेडमें पर झूले डाल कर झूलना संभव नहीं लगता। सावन भी पता नहीं चलता, कब आया और कब गया, इसलिए मैंने अपने पति से कहकर घर में झूला लगवा लिया है। अब तीज-त्योहार घर में ही मना लेते हैं और घर की शोभा जो बढ़ती है, सो अलग।

झूले से मिले खास लुक
इंटीरियर डेकोरेटर प्रीति बंसल के अनुसार, घर खूबसूरत लगे, इसके लिए जरूरी है कि घर का इंटीरियर आरामदायक होने के साथ-साथ आकर्षक भी हो। खासतौर पर ड्राइंगरूम में सजावट रचनात्मक ढंग से होनी चाहिए, इसलिए अब ड्राइंग रूम में सोफा कम झूला रखने का रिवाज बढम् गया है। आयरन या वुड के बने झूले, जहां ड्राइंग रूम को ट्रेडिशनल टच देते हैं, वहीं यह काफी आरामदायक भी होते हैं। धीरे-धीरे इन पर झूलना दिनभर की थकान को छूमंतर कर देता है। इसी प्रकार का झूला आप अपने गार्डन या टेरिस पर लगा कर प्रकृति के सान्निध्य का मजा उठा सकते हैं।
 
झूले का चयन
इंटीरियर के रूप में उपयुक्त झूले का चयन करना काफी महत्त्वपूर्ण है। सबसे बढिम्या झूला वही है, जो आपकी जेब व घर के स्पेस के अनुकूल हो और साथ में आरामदायक भी। यदि घर में झूले लायक जगह कम है तो आप कैन के बने सिंगल सीट वाले झूले लगा सकते हैं। यह जगह कम घेरते हैं और रखरखाव भी आसान होता है।
यदि आप देर रात तक किताबें आदि पढम्ने के शौकीन है तो स्विंग कुर्सी आपके लिए सबसे बेहतर विकल्प हो सकती है। इससे रीडिंग का मजा भी दुगना हो जाएगा। अगर आपका घर ग्राउंड फ्लोर पर है और आपने वहां गार्डन बना रखा है तो वहां नायलॉन की पतली-पतली रस्सियों से बने नैट झूले का उपयोग करना बेहतर रहेगा। जहां यह सस्ते होते हैं, वहीं आप अपनी जरूरत के मुताबिक इसे जब मर्जी लगा और हटा सकते हैं। इसी प्रकार आप घर या बगीचे में रस्सी झूले का उपयोग भी कर सकते हैं।झूला कम बैड, बैडरूम में लगाने का प्रचलन भी जोर पकड़ रहा है। यूरोप में तो यह खासा लोकप्रिय है। इससे आपके बैडरूम को एक रॉयल लुक मिलेगी। इसके अतिरिक्त भी बाजार में अनेक तरह के झूले मिलते हैं, जो खासतौर पर घर के इंटीरियर को ध्यान में रख कर बनाए जाते हैं। पर खरीदारी के दौरान अपने घर की साज-सज्जा की थीम का अवश्य ध्यान रखें।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:आओ घर में ही झूलें झूला