DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सड़क पर रखे जनरेटर मालिकों पर टेढ़ी नजर

कालोनियों की सड़कों व साइड पटरियों पर अवध रूप से रखे जनरेटर स्वामियों पर नगर निगम ने शिकंज कसने का मन बनाया है। निगम ने गोपनीय तरीके से सव्रे कराकर लगभग 739 जनरेटर मालिकों को अब तक नोटिस दे चुका है,अब सभी से अर्थदंड वसूलने की तैयारी है। नगराुयक्त अजय शंकर पांडेय ने बताया कि शहर की कई कालोनियों में लोंगों ने अपनी सुविधा के लिए निगम की सरकारी जमीन पर अवध रूप से जनरेटर हॉऊस तक बना लिए हैं। सैकड़ों की संख्या में अवध रूप से रखे जनरेटरों के कारण ध्वनि व वायु प्रदूषण तो होता ही है,कई स्थानों पर गाड़ियों की आवाजही में भी परेशानी होती है।

उन्होंने बताया कि सड़क पर रखे जनरेटरों की वजह से कई बार स्थानीय लोंगों ने शिकयते भी निगम में की। इसके बाद ही जनरेटर मालिकों पर शुल्क लगाने अथवा शमन शुल्क लगाकर कार्रवाई  की प्लानिंग की गई। तीन महीनों के भीतर लगभग 739 लोंगों को नोटिस दिया गया है। इसमें अकेले कविनगर जोन में ही चार सौ लोग हैं। उपरोक्त सभी को 15 दिनों के भीतर जनरेटर वाले स्थल का शमन शुल्क जमा कराने को कहा गया है। उक्त अवधि के बाद निगम द्वारा खुद ही जनरेटर हटाने की कार्यवाही की जएगी। तब लोंगों से जनरेटर हटाने के एवज में शुल्क भी वसूला जाएगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:सड़क पर रखे जनरेटर मालिकों पर टेढ़ी नजर