DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी सूचनाएं सार्वजनिक करने को बाध्य

केन्द्रीय सूचना आयुक्त शैलेश गांधी ने दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी को सूचना के अधिकार के तहत मांगी जाने वाली जानकारियां सार्वजनिक करने के आदेश दिये हैं। इस फैसले में कहा गया है कि कमेटी का गठन संसद में पारित एक अधिनियम के तहत हुआ है इसी लिए वह सूचना के अधिकार कानून के तहत मांगे जाने पर संबंधित सूचनाएं मुहैया कराने के लिए बाध्य है।


बीते दिनों दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधकमेटी के सलाहकार बोर्ड के चेयरमैन मोहिन्दर सिंह मठारू तथा दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंध सुधार कमेटी के सदस्य जत्थेदार कुलदीप सिंह भोगल ने सूचना के अधिकार के तहत 12 सवाल करके कमेटी से जनहित में सूचनाएं मांगी थीं। प्रश्नकर्ताओं को मांगी गई सूचनाएं यह कहते हुए देने में हीला हवाली की गई कि दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी सूचना के अधिकार के तहत नहीं आती है।


अब सूचना आयुक्त ने जत्थेदार भेगल और  मटारू द्वारा मांगी गयीं सूचनाओं को ब्यौरा आगामी 5 अगस्त तक मुहैया कराने का आदेश दिया है। सूचना आयुक्त ने अपने फैसले जिन एक दर्जन विषयों की जानकारियों को सार्वजनिक करने को कहा है उनमें बाला साहिब गुरुद्वारा के निकट करीब दस एकड़ में निर्माणाधीन गुरु हरिकिशन अस्पताल को मनीपाल हैल्थ ग्रुप को सौंपने के करार, दिल्ली कमेटी द्वारा संचालित 12 हरिकिशन पब्लिक स्कूलों में की गई नियक्तियों और वेतनमान, इन स्कूलों के परीक्षाफल,दिल्ली कमेटी की कार्यकारिणी के चुनाव संबंधी सूचनाएं मुहैया कराने के आदेश दिये हैं।


सूचना आयुक्त के फैसले के बाद आयोजित एक प्रेस कान्फ्रेंस में जत्थेदार कुलदीप सिंह भोगल ने कहा कि अब देश का कोई भी नागरिक लाखों रुपये की बजट वाली दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमटी के खर्चों और मनमाने फैसलों पर जानकारी हासिल कर सकेगा। उन्होंने कहा कि जल्दी ही कमेटी द्वारा खरीदे गये देशी घी के मिलावटी पाये जाने के मामले में भी सवाल किये जायेंगे ताकि सभी को हालात की जानकारी मिल सके। उन्होंने एक सवाल के जवाब में कहा कि कमेटी की जवाबदेही के साथ इसकी कार्यप्रणाली को भी पारदर्शी बनाने में सूचना का अधिकार कारगर साबित होगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी सूचनाएं सार्वजनिक करने को बाध्य