अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

स्कूली बच्चों में तेजी से पड़ रही सिगरेट पीने की लत

स्कूली बच्चों में सिगरेट-बीड़ी पीने की लत पड़ती जा रही है। अब तक 14 फीसदी बच्चे इसकी गिरफ्त में आ चुके हैं। 75 प्रतिशत घरों में अभिभावक बच्चों के सामने धूम्रपान करते हैं। ग्रामीण आचंल के सरकारी व निजी स्कूलों में पढ़ रहे बच्चों का अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) की स्थानीय शाखा द्वारा करवाए गए सर्वे रिपोर्ट में चौंकाने वाले यह तथ्य सामने आए हैं। स्वास्थ्य के  प्रति छात्रों को जगरूक करना एम्स का मुख्य मकसद है। इसी को लेकर प्राइमरी से दसवीं कक्षा तक पढ़ने वाले बच्चों का सर्वे करवाया गया।


एम्स की ग्रामीण व्यापक परियोजना के इंचार्ज डॉ.आनन्द के नेतृत्व में डॉ.दीपिका सिंह की एक टीम ने क्षेत्र के 20 गांवों के 40 सरकारी व गैरसरकारी स्कूल में सर्वे कराया। जहां 2500 बच्चों से उनके स्वास्थ्य व उनकी प्रतिदिन की गतिविधियों के बारे में पूछताछ की गई। ज्यादतर बच्चे कक्षा से 6 से 7 के हैं। इसके आधार पर ही एक सर्वे रिपोर्ट तैयार की। रिपोर्ट के बाद टीम ने इन स्कूल प्रबंधन से सम्पर्क करना शुरू कर दिया है। जिनके साथ बैठक कर स्कूलों में बच्चों के स्वास्थ्य के प्रति जगरूकता अभियान चलाया जाएगा। खान पान भी बच्चों का ठीक नहीं है। विशेष बात यह है कि शहर की तरह ग्रामीण बच्चे भी फॉस्ट फूड के आदि हो रहे हैं। जो उनके स्वास्थ्य को प्रभावित कर रहा है। व्यायाम में भी बच्चे काफी पीछे हैं। स्कूल में पीटी नहीं करवाई जाती है। इन स्कूल में 30 फीसदी बच्चे व्यायाम कर पाते हैं।
------------------------------
एम्स द्वारा की गई 11 साल तक के बच्चों की सर्वे रिपोर्ट
1. धूम्रपान           
  -14 प्रतिशत बच्चे धूम्रपान करते हैं।
  -75 प्रतिशत बच्चों के घरों में सेवन किया जाता है।
  -30 प्रतिशत बच्चों को ऐसा नहीं लगता कि नुकसान होता है।
  -14 प्रतिशत बच्चे दिन में ढाई सिगरेट या बीड़ी पीते हैं। 

2.शारारिक क्रिया      
 -30 प्रतिशत बच्चे व्यायाम के बारे में नहीं जानते
 -40 प्रतिशत स्कूलों में पीटी नहीं होती

3.खान-पान
-50 प्रतिशत ठीक मात्रा में फल नहीं खाते
-45 प्रतिशत ठीक मात्रा में सब्जी नहीं खाते
-20 प्रतिशत बच्चे सप्ताह में चार से पांच बार कोल्ड ड्रिंक पीते हैं
-7 प्रतिशत कोल्ड ड्रिंक नहीं पीते
-30 प्रतिशत कचौड़ी, बर्गर आदि सप्ताह में चार-पांच बार खाते हैं 
-50 प्रतिशत बच्चे नाश्ता करते हैं
-25 प्रतिशत बच्चे ऐसे हैं जो प्रतिदिन स्कूल के बाहर से खाद्य सामग्री खरीदते हैं। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बच्चों में तेजी से पड़ रही सिगरेट पीने की लत